जल: हाथ से फिसलते हालात

जल की बर्बादी और बढ़ते प्रदूषण के कारण हमारे जीवन के लिए उत्पन्न हो रहे खतरे के प्रति आगाह कर रहे हैं आमिर खान जब मानव अंतरिक्ष के बाहर जीवन के लक्षणों की तलाश करता है तो सबसे पहले क्या देखता है? वह देखता है जल का अस्तित्व। किसी भी ग्रह में जल की उपस्थिति से यह संकेत मिलता है कि वहां जीवन संभव है। जाहिर है कि जल का अर्थ जीवन है और जीवन … [आगे पढ़ें...]

..तो खारा पानी भी हो सकता है मीठा

डा. नंद राम राजपूत, चौमुंहा धरती के बढ़ते तापमान, असंतुलित व असमय वर्षा, समुद्र के जलस्तर में वृद्धि, क्षतिग्रस्त होती ओजोन परत, भूकंप, तूफान, चक्रवात से मचने वाली तबाही। इनके कारण कई हो सकते हैं, लेकिन कारक सिर्फ एक है प्रकृति से छेड़छाड़। ग्लोबल वार्मिंग और वातावरण के बदलते परिवेश को लेकर वैज्ञानिक चिंतित हैं। अगर जल्द इन समस्याओं को … [आगे पढ़ें...]