गुरु पूर्णिमा पर जर्जर सड़कों से गुजरेंगे तीर्थयात्री

पंचकोसीय परिक्रमा पड़ी अधूरी-नहीं हो सका सुंदरीकरण वृंदावन: गुरु पूर्णिमा पर्व पर लाखों श्रद्धालु शहर के आश्रमों में गुरु पूजन के लिए वृंदावन आयेंगे। लेकिन उन्हें जर्जर सड़कों से गुजरना पड़ेगा। लोक निर्माण विभाग व प्रशासन की अनदेखी तीर्थयात्रियों की परेशानी बढ़ाती नजर आ रही है। पंचकोसीय परिक्रमा का भी हाल अच्छा नहीं है। चार साल बीत जाने … [आगे पढ़ें...]

दूसरे दिन भी चला दान का दौर

वृंदावन : गुरु पूर्णिमा के दूसरे दिन भी प्रभु के आंगन में श्रद्धा-भक्ति, सेवा और दान का दौर चलता रहा। गुरु द्वारा बुधवार को सैकड़ों संत-महंतों का समागम कर उनकी गुरु रूप में सम्मान किया। दूसरी ओर परित्यक्त, उपेक्षित और अतृप्त जीवन जीने के लिये मजबूर विधवा, वृद्ध एवं निराश्रित महिलाओं को भी दान संग मान दिया गया। इस मौके पर वक्ताओं ने … [आगे पढ़ें...]

गुरुओं ने दिये आशीर्वचन, ब्रज के मंदिरों में भी उमड़ी भीड़, सजे भंडारे तो कहीं प्याऊ लगायी गई

मथुरा: गुरु पूर्णिमा पर्व पर विष्णु, ब्रव0161ा, और महेश्वर के रूप में मान्य गुरुओं के आश्रम और कुटियों में शिष्यों की कतारें लगीं रहीं। शिष्यों ने गुरूओं का चरण वंदन किया और आशीर्वचन पाकर स्वयं को धन्य महसूस किया। शिष्यों ने भवसागर से पार होने और जीवन-मरण के बंधन से मुक्ति के साथ भौतिक सुख की कामना की। ब्रज के मंदिर और आश्रमों में सुबह से … [आगे पढ़ें...]

एक करोड़ भक्तों ने लगाई गिरिराज परिक्रमा

गोवर्धन: जय हो गोवर्धन गिरधारी। यह आवाज एक बार उठती थी तो 21 किमी की दूरी तक बढ़ती चली जाती थी। आखिर आस्था और विश्वास के मुड़िया पूर्णिमा मेले के आखिरी दिन मंगलवार को गिरिराज के भक्तों का जनसमुद्र जो उमड़ पड़ा था। सप्तकोसीय परिक्रमा के दौरान तीस घंटों तक कहीं भी यह सघन मानव श्रृंखला नहीं टूटी। सूर्यदेव का हठ, गर्मी की प्रचंडता और उमस भरा … [आगे पढ़ें...]

गिरिराज बोले..तो मैं भी नहीं सोऊंगा

गोवर्धन: कहते हैं कि भगवान भक्त के वश में होते हैं। भक्तों को दर्शन देने के लिए गिरिराज जी ने भी आराम नहीं किया। एक साथ इतनी संख्या में आने वाले भक्तों की भीड़ को देखकर गिरिराज महाराज हाथों में लकुटि कमरिया के साथ अपने दर पर टकटकी लगाये खड़े थे। मोहनी मूरत, सांवरी सूरत और विशाल नयनों में भक्तों के लिऐ उमड़ता प्यार, सिर पर स्वर्ण जणित … [आगे पढ़ें...]

गिरिराज पर आस, खानपान लाए साथ

मुड़िया मेला : राज्यों और आदिवासी इलाकों की आमद मथुरा: 58 साल के छंगा महतू पत्नी और पुत्र वधु के साथ सुबह गाड़ी से उतरे हैं। अभी स्टेशन रोड पर चादर तानकर दोपहरी कटने के इंतजार में हैं। विदिहा का परिवार भूतेश्वर रोड पर शाम का इंतजार कर रहा है तो सुखन बाई दो दिन से थोड़ी हिम्मत आने की मन्नत मांग रही है। घर से साथ लाए हैं लिट्टी-चोखा सत्तू … [आगे पढ़ें...]

लघु भारत बन रहा है गोवर्धन में

गोवर्धन: अद्भुत, अतुलनीय, अलौकिक। संस्कृतियों और भाषाओं का अनूठा संगम। विभिन्न जाति और भाषाओं के मिश्रण से निकलता बस एक ही नाम, गिरिराज महाराज की जय और राधे- राधे। प्रदेश अनेक, लक्ष्य बस एक, अपने प्रभु की भक्ति में लीन होकर दर्शनों की चाहत। कुछ ऐसा ही नजारा है आजकल गिरिराज तलहटी का। विभिन्न प्रदेशों से आये लोगों के अनूठे संगम से गोवर्धन … [आगे पढ़ें...]

शिष्यों ने छेड़ी गुरु पूजा की तान

वृंदावन: सोलह कलाओं के साथ अवतरित होने के बाद भी गुरुकुल में दाखिल होकर गुरु का महत्व प्रतिपादित करने वाले श्रीकृष्ण और उनकी आल्हादिनी शक्ति राधा की लीला भूमि में शिष्यों ने श्रद्धा-भक्ति संग गुरु पूजा की तान छेड़ दी है। श्रद्धालुओं ने पंच दिवसीय पर्व की शुरूआत श्रीधाम की परिक्रमा एवं गुरुदेव संग राधे-कृष्णा का पग-पग पर घोष करके कण-कण को … [आगे पढ़ें...]

यहां पूरी होती है हर मन्नत

गोवर्धन (DJ): गिरिराज महाराज के दर पर मन्नत मांगने वालों की लंबी लाइनें लगी रहती हैं। इस दरबार से कभी कोई खाली हाथ नहीं लौटा। इसका प्रमाण है कि कभी गोवर्धन तलहटी में हजारों की संख्या में श्रद्धालु आया करते थे। अब ये संख्या करोड़ों तक पहुंच चुकी है। लोगों में गिरिराज महाराज के प्रति आस्था बढ़ती ही जा रही है। यहां कोई मां अपनी सूनी गोद का … [आगे पढ़ें...]

भक्ति के सागर में आस्था की लहरें

शनिवार को पांच लाख श्रद्धालुओं ने लगाई गिरिराज की परिक्रमा गोवर्धन: भक्ति के सागर में आस्था की लहरें उमड़ पड़ीं। गिरिराज भक्ति में आकंठ डूबे लोगों के मुंह से परिक्रमा मार्ग में बस एक ही शब्द की ध्वनि सुनाई दे रही है, गोवर्धन महाराज की जय और राधे-राधे। भीषण गर्मी में पसीने से नहाये श्रद्धालु अपने इष्ट की भक्ति में डूबे सिर्फ राधे-राधे के … [आगे पढ़ें...]