विकास की बाट जोह रहीं विरासत

गोवर्धन: जो बृज बसुंधरा में भगवान की क्रीड़ा स्थली को प्रमाणित करते हैं, आज उन्हीं का अस्तित्व खतरे में नजर आता है। उन तक पहुंचने के लिए न सुगम रास्ते हैं और न ही हिफाजत हो रही है। स्थिति ये है कि प्राचीन कुण्डों का पानी आचमन योग्य नहीं है। पौराणिक चिन्हों को नहीं बचाया गया तो बृज बसुंधरा से पौराणिक महत्व की चीजें लोप हो सकती … [आगे पढ़ें...]

शिष्यों ने छेड़ी गुरु पूजा की तान

वृंदावन: सोलह कलाओं के साथ अवतरित होने के बाद भी गुरुकुल में दाखिल होकर गुरु का महत्व प्रतिपादित करने वाले श्रीकृष्ण और उनकी आल्हादिनी शक्ति राधा की लीला भूमि में शिष्यों ने श्रद्धा-भक्ति संग गुरु पूजा की तान छेड़ दी है। श्रद्धालुओं ने पंच दिवसीय पर्व की शुरूआत श्रीधाम की परिक्रमा एवं गुरुदेव संग राधे-कृष्णा का पग-पग पर घोष करके कण-कण को … [आगे पढ़ें...]

विरासत की न कर सके हिफाजत

वृंदावन: कुछ नया तो दूर प्रशासन विरासतों की भी हिफाजत नहीं कर पा रहा है। कान्हा की नगरी में ऐसे कईकुण्ड हैं जिनकी पौराणिक महत्ता है। लेकिन वह देखरेख के अभाव में लुप्त होते जा रहे हैं। किसी पर अवैध कब्जा किया जा रहा है तो कोई बदहाली पर आंसू बहा रहा है। इन्हीं में से हैगोविंद प्रकटकुण्ड। अनदेखी के कारण कुण्ड की दीवाल ढह गईहैं तो पानी की … [आगे पढ़ें...]