राधावल्लभ मंदिर क्षेत्र में बीस लाख रूपये की दिनदहाड़े चोरी

वृन्दावन, 03 नवम्बर 2017,(VT) ठा. राधाबल्लभ मंदिर घेरा स्थित एक मकान में दिनदहाड़े लाखों की चोरी हो गई। घटना से क्षेत्र में सनसनी फैल गई है। मकान मालिक ने अज्ञात चोरों के विरुद्ध ताले चटका कर लाखों रुपये के जेवरात समेत दो लाख रुपये नकद चोरी होने की तहरीर दी है। ठा. राधाबल्लभ मंदिर से चंद कदमों की दूरी पर राधेश्याम अग्रवाल पेड़ा वाले का … [आगे पढ़ें...]

पॉलीथिन मुक्त वृंदावन बनाने को घर से करनी होगी शुरुआत

-धानुका विद्यालय में पॉलीथिन हटाओ वृंदावन बचाओ अभियान  वृन्दावन, 03 नवम्बर 2017,(VT) सांसद हेमा मालिनी ने कहा कि पॉलीथिन मुक्त वृंदावन बनाने के लिए हम सभी को व्यक्तिगत तौर पर घर शुरुआत करनी होगी। घरों, मंदिरों, आश्रमों को सुंदर बनाने के साथ उनके कचरों और गंदगी को नियत स्थान पर पहुंचाने की व्यवस्था प्राथमिकता से करनी चाहिए। इसके लिए … [आगे पढ़ें...]

अब बहुत जल्द तीर्थ बनेंगे ईको-टूरिज्म, अब श्रद्धालु हेलीकाप्टर से निहारेंगे तीर्थों की तस्वीर

- करीब सौ करोड़ रुपये खर्च किए जाने हैं ईको टूरिज्म में रहने और खाने की व्यवस्थाओं पर - पहले चरण में सूबे के छः जिलों को जोडेंगे हेलीकॉप्टर सेवा से वृन्दावन, 02 नवम्बर 2017,(VT) प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में दो दर्जन स्थानों को ईको टूरिज्म स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। इसके लिए जल्द ही पर्यटन विभाग और वन विभाग के बीच एमओयू पर … [आगे पढ़ें...]

हलफनामे में विरोधाभास देख हाईकोर्ट ने अपनाया कड़ा रूख, मुख्यसचिव गलत हलफनामा दाखिल करने वाले अधिकारी पर करें कार्रवाई : हाईकोर्ट

- मुख्यसचिव को छह नवंबर को रिपोर्ट पेश करने का आदेश वृन्दावन, 02 नवम्बर 2017,(VT) हाईकोर्ट ने मथुरा-वृंदावन में यमुना नदी प्रदूषित होने पर विभिन्न विभागों के हलफनामों में विरोधाभास देख कड़ा रुख अपनाया है। कोर्ट ने मुख्य सचिव को गलत हलफनामा दाखिल करने वाले अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई कर छह नवंबर को रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया … [आगे पढ़ें...]

श्री हित वृन्दावन प्राकट्य महोत्सव में झलकी ब्रज रस की अनूठी छटा

- शास्त्रीय संगीत सुन आनंदित हो उठे श्रद्धालु वृन्दावन, 02 नवम्बर 2017,(VT) श्रीरास पूर्णिमा के अन्तर्गत श्रीहित हरिवंश प्रचार मंडल के तहत आयोजित तीन दिवसीय श्रीहित वृन्दावन प्राकट्य महोत्सव के अन्तर्गत 510 वां प्राकट्य महोत्सव मनाया गया, जिसमें शुभारंभ राधाबल्लभ संप्रदाय के आचार्य राधेलाल गोस्वामी ने किया। समारोह में पधारी विदिति … [आगे पढ़ें...]

सिद्ध श्रील गौर किशोर दास बाबा जी महाराज के तिरोभाव महा-महोत्सव पर विशेष :

Vrindavan :  श्रील गौर किशोर दास बाबा जी महाराज का जन्म 1838 में हुआ। 30 वर्ष तक आप गृहस्थ में रहे। पत्नी की मृत्यु के पश्चात आपने वृन्दावन में प्रस्थान किया जहां उन्होंने अगले तीस वर्ष निरन्तर भजन में बिताए। इसके पश्चात बाबा जी महाराज नवद्वीप द्वीप गए और वे अपने अंतिम श्वास तक वहीं रहे। आप अपने अप्राकृत नेत्रों से नवद्वीप मंडल के … [आगे पढ़ें...]

राखी कांड में हाईकोर्ट के रिमांड पर मथुरा पुलिस

- हाईकोर्ट ने राखी के भाई-बहन के भविष्य को लेकर मांगे सुझाव - अगली सुनवाई 6 नवम्बर में वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को सम्बन्धित पत्रावली सहित हाजिर होने के आदेश वृन्दावन, 31 अक्टूबर 2017,(VT) अमर कॉलोनी हत्याकांड का खुलासा न होने पर सिस्टम के आगे बेबस बालिका राखी द्वारा आत्महत्या किए जाने मामले में सामाजिक कार्यकर्ता महंत मधुमंगल शरण दास … [आगे पढ़ें...]

तुलसी-शालिग्राम विवाह आज: मांगलिक कार्यों की शुरूआत आज से

- जो मनुष्य तुलसी का विवाह भगवान से करते हैं, उनके पिछले जन्मों के सब पाप नष्ट होते हैं - चार महीनों में भगवान विष्णु क्षीरसागर की अनंत शैय्या पर शयन करते हैं इस कारण चार मास के लिए बन्द रहते हैै मांगलिक कार्य वृन्दावन, 31 अक्टूबर 2017,(VT) कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी देवोत्थान, तुलसी शालिग्राम विवाह एवं भीष्म पंचक एकादशी के रूप में … [आगे पढ़ें...]

ब्रज का विशेष आकर्षण हैः प्रसिद्ध कंस वध मेला

- चतुर्वेदी युवक अपनी-अपनी लाठियों से सुसज्जित होकर कंस टीले पर लगे कंस के पुतले को नष्ट करते है वृन्दावन, 31 अक्टूबर 2017,(VT) कंस टीले पर आयोजित होने वाला यह मेला ब्रज का विशेष आकर्षण हैं। भगवान श्रीकृष्ण द्वारा कंस को मारने के उपलक्ष्य में मथुरा में यह मेला आयोजित होता है। इस दिन चतुर्वेदी युवक अपनी-अपनी लाठियों से सुसज्जित होकर कंस … [आगे पढ़ें...]

आज श्रीपाद गोपालगुरु गोस्वामी के तिरोभाव महोत्सव पर विशेष 

Vrindavan : श्रीमुरारि पण्डित के पुत्र श्रीमकरध्वज को श्रीमन्महाप्रभु ने गुरु पदवी प्रदान की थी। वे अति प्रभावशाली थे। एक दिन श्रीमहाप्रभु लौकिक लीलानुरोध से बहर्देश(शौचादि) गमन के समय अपनी जिह्वा को दाँतों से दबाये हुये थे। बालक मकरध्वज ने यह देखा और महाप्रभु के निवृत्त-स्नान आदि कर आने पर पूछा कि प्रभो! उस समय आप ऐसा क्यों कर रहे … [आगे पढ़ें...]