ब्रज के रसिकाचार्य – रूप गोस्वामी का गृह – त्याग

भाग 3 गृह - त्याग: विषय और विधर्मी राजा की सेवा करते हुए सन्तोषदेव का इस प्रकार निरन्तृर नियमित रूपसे सेवा-पूजा, अर्चना और ध्यानादि में लगे रहना दुष्कर था। फिर भी वे यथा संभव अपने आत्मा को उसका स्वाभाविक आहार देने की चेष्टा करते रहते । इसमें जब बाधा पड़ती तो बेचैन हो उठते राजा और माया के दासत्व की बेड़ियाॅ काट फेंकने के लिए। पर माया की … [आगे पढ़ें...]

ब्रज के रसिकाचार्य – श्री रूप गोस्वामी (भाग 2)

भाग 2:  वंश परम्परा संतोषदेव कौन थे?  इनके पूर्वपुरुष दक्षिण भारत के वैदिक श्रेणी के ब्राह्मण थे। कर्नाट देशके किसी अंचल में उनका राज्य था। परवर्ती कालमें उनके वंशज श्री पद्मनाभ गंगातीर पर वास करने के उद्धेश्य से नवहट्ट (नैहाटी) चले गये थे। उनके पुत्र मुकुन्ददेव गौड़ के बादशाह के एक उच्च कर्मचारी थे, जो गौड़ देश की राजधानी गौड़ शहर के … [आगे पढ़ें...]

उत्साह और उमंगता से मना ठा. प्रियावल्लभ लाल का 204वां पाटोत्सव

- हरिनाम संकीर्तन की धुन पर भक्त एवं श्रद्धालु हुए भावविभोर - श्रीवृन्दावन स्वरूप संरक्षण पर वृन्दावन शोध संस्थान एवं स्थानीय अध्येताओं ने की चर्चा - श्रीहित परमानन्द जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर डाला प्रकाश वृन्दावन, 10 जनवरी 2017, (VT) छीपी गली स्थित दतिया वाली कुंज में ठा. प्रियावल्लभ लाल का 204 वां पाटोत्सव विभिन्न धार्मिक … [आगे पढ़ें...]

गिरिराज पर्वत के संरक्षण और सुरक्षा को लेकर श्राइन बोर्ड का गठन

- एनजीटी के आदेशों के अनुपालन राज्य सरकार ने लिया महत्वपूर्ण फैसला   - राज्य सरकार ने दानघाटी मंदिर, मुखारबिंद मंदिर मानसी गंगा और मुखारबिंद मंदिर जतीपुरा का किया अधिग्रहण - श्राइन बोर्ड को मंदिरों से 24 करोड़ रूपये की सलाना आय वृन्दावन, 10 जनवरी 2017, (VT) एनजीटी के लगातार आदेशों के बावजूद राज्य सरकार ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए … [आगे पढ़ें...]

ब्रज के रसिकाचार्य – श्री रूप गोस्वामी

भाग 1:  श्रावण की अंधेरी रात है। बहुत देर से घनघोर ‘वृष्टि हो रही है। अभी कुछ धीमी पड़ी है। पर तूफानी हवा अभी भी सांय सांय कर रही है।  कभी बादलों की गड़गड़ाहट दिशाओं को विकम्पित कर जाती है, कभी श्मशान-सी खामोशी छा जाती है। रामकेलि ग्राम से हुसेन शाह की राजधानी गौड़ शहर जाने का पथ पिच्छिल है, कहीं-कहीं घोंटू तक जल है। जब बिजली कौंधती है, तब … [आगे पढ़ें...]

सांसद हेमामालिनी के नृत्य से श्रीराधारमण आंगन हुआ भक्ति में सरोबार

- मधुवन में राधिका नाची रे.........   - वैष्णावाचार्य पुण्डरीक गोस्वामी के सेवा महोत्सव में दी प्रस्तुति वृन्दावन, 09 जनवरी 2017, (VT)  राधारमण देव जू सेवा महोत्सव में सोमवार की शाम राधारमण मंदिर प्रांगण में हुए सांसद हेमामालिनी के नृत्य की साक्षी बनी। सांस्कृतिक कार्यक्रमों की श्रृंखला में सांसद हेमामालिनी की नृत्य प्रस्तुति के देखने … [आगे पढ़ें...]

वृन्दावन में सप्तदेवालयों को संवारे तो पर्यटन एवं तीर्थांटन को लगेंगे पंख

- नए मंदिरों की होड़ के चलते प्राचीन मंदिरों का भी हो सौंदर्यीकरण   - प्रशासन और तीर्थ विकास परिषद ने प्राचीन सप्तदेवालयों को सजाने की अभी तक नहीं ली कोई सुध वृन्दावन, 09 जनवरी 2017, (VT) मंदिरों के नाम से प्रख्यात वृंदावन में नए मंदिर भले ही श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र बन रहे हैं। मगर, प्राचीन मंदिरों का सौंदर्य भी इन नए मंदिरों से … [आगे पढ़ें...]

बरसाना में शीघ्र ही बनेगा संस्कृति कला केंद्र: निदेशक संस्कृति विभाग

- रविवार को श्रीमिश्र राधारानी के दर्शन करने के लिए पहुंचे थे बरसाना वृन्दावन, 09 जनवरी 2017,(VT) राधाकृष्ण की दिव्य लीला स्थली तीर्थ स्थल बरसाना में जल्द संस्कृति कला केंद्र खोला जाएगा। यह बात भारत सरकार के कला संस्कृति विभाग के निदेशक पंडित पुलकित मिश्र ने पत्रकारों से रंगीली महल में वार्ता करते हुए कही। रविवार को श्री मिश्र राधारानी … [आगे पढ़ें...]

पर्यावरणविद् एमसी मेहता ने किए श्रीकृष्ण- जन्मस्थान के दर्शन

- मेहता टीटीजेड की उच्चाधिकार समिति, आगरा में हुई बैठक में से लौट रहे थे वृन्दावन, 08 जनवरी 2018,(VT) पर्यावरणविद् एमसी मेहता ने शुक्रवार को सपरिवार श्रीकृष्ण-जन्मस्थान के दर्शन किए। दर्शन के बाद संस्थान की प्रबंध-समिति के सदस्य गोपेश्वरनाथ चतुर्वेदी, मुख्य अधिशासी राजीव श्रीवास्तव और जनसंपर्क अधिकारी विजय बहादुर सिंह ने स्वागत कर … [आगे पढ़ें...]

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शीघ्र ही शामिल होगा मथुरा जनपद

- सांसद हेमामालिनी की संस्तुति पर मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार की ओर से एनसीआर बोर्ड को भेजा प्रस्ताव   वृन्दावन, 08 जनवरी 2018,(VT) तीर्थस्थल की सौगात के बाद अब मथुरा जनपद एक नई सौगात बहुत जल्द ही मिल सकती हैं, मथुरा जिले के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शामिल होने का एक और अवरोध दूर हो गया है। सांसद हेमा मालिनी की संस्तुति पर … [आगे पढ़ें...]