तिरोभाव महोत्सव विशेषः सर्वसाधारण के उपकार और कल्याण के लिए बंगला में बहुत ग्रंथों की रचना की थी श्रील नरोत्तम ठाकुर महाशय

वृन्दावन, 12 अक्टूबर 2017,(VT) पदमा नदी से एक मील दूर गरान हाटी के खेतुरी ग्राम में इनका अवतरण हुआ जो कि पूर्व बंग में अवस्थित था। उसी राज्य में स्वामी श्री कृष्णा नंद दत्त मजुमदार के यहाँ नारायणी देवी के गर्भ से ठाकुर नरोत्तम दास जी का जन्म हुआ। ये बाल्यकाल से ही विरक्त थे, घर में अतुल्य ऐश्वर्य था, सभी प्रकार के संसारी सुख थे, किन्तु … [आगे पढ़ें...]

दीपावली त्योहार पर जीएसटी के चलते बाजारों में छाया सन्नाटा

वृन्दावन, 12 अक्टूबर 2017। दीवाली के मौके पर जब बाजार एकदम से उछाल मारता था। दुकान या शो-रूम पर दम लेने तक को फुर्सत नहीं मिलती थी। मगर इस साल दुकान और शोरूम संचालकों की आंखें ग्राहकों के इंतजार में पथरा गई हैं। दीवाली का मौका था तो माल तो पूरा भरना ही था। मगर, दीवाली से चंद रोज पहले तक के हालात ऐसे कि पूरा दिन में एक या दो ग्राहक शोरूम … [आगे पढ़ें...]

प्रिया-प्रियतम का प्रिय श्रीराधाकुण्ड दिव्य रसों से परिपूर्ण

-आज अर्द्धरात्रि में स्नान करने का होता है बहुत महात्मय वृन्दावनए 12 अक्टूबर 2017। श्रीराधाकुण्ड गोवर्धन पर्वत की तलहटी में शोभायमान है। कार्तिक माह की कृष्णाष्टमी यबहुलाष्टमीद्ध अर्थात आज के दिन यहाँ स्नान करने वाले श्रद्धालुओं को श्री प्रिया.प्रियतम की सेवामयी प्रेमाभक्ति प्राप्त होती है। अर्धरात्रि के समय श्रीराधाकुण्ड एवम् … [आगे पढ़ें...]

शासन-प्रशासन की लेटलतीफी और लापरवाही ने ली राखी की जान

- सात माह बाद भी डकैती एवं मां-बाप की हत्या का खुलासा न होने से व्यथित थी राखी - विषाक्त खाया, देर रात नयति अस्पताल में मृत्यु वृन्दावन (मथुरा) 11 अक्टूबर, 2017,(VT) अमर कॉलोनी में सात माह पूर्व हुई डकैती और दंपति हत्याकांड का खुलासा न होने से व्यथित बेटी ने आत्महत्या कर शासन और प्रशासन के नुमाइंदों में खलबली मचा दी है। आत्महत्या पर … [आगे पढ़ें...]

बरसाना स्थित श्रीराधारानी की प्रिय स्थली गहवरवन घोषित हो वन्य विहार

40वें ब्रज में कुर्सी दौड़, खो-खो प्रतियोगिता हुई वृन्दावन, 08 अक्टूबर 2017, (VT)राधारानी के सबसे प्रिय गहवरवन को राधारानी जीव जंतु वन्य विहार घोषित करने की मांग गुरुवार को एक बार फिर 40वें ब्रज एवं पर्यावरण सम्मेलन में उठी। पर्यावरण प्रेमियों ने पौधरोपण, कुर्सी दौड़ और खो-खो प्रतियोगिता भी कराईं। शाम को भजन संध्या का आयोजन किया … [आगे पढ़ें...]

संकर्षण का अभिषेक कर अभिभूत हुए योगगुरू बाबा रामदेव

वृन्दावन, 08 अक्टूबर 2017,(VT) योग गुरु बाबा रामदेव ने शुक्रवार को गोवर्धन में भगवान संकर्षण के विग्रह का पंचामृत, जल व गुलाब की पंखुड़ियों से अभिषेक किया। 35 फुट ऊंचे मचान से अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि इस गंदे पोखर को संकर्षण कुंड के रूप में दिव्य रूप प्रदान कर द ब्रज फाउंडेशन ने एक और इतिहास रच दिया। रामदेव ने कहा कि दक्षिण भारत … [आगे पढ़ें...]

सीएम के वृन्दावन आगमन पर खादर पीड़ितों का प्रदर्शन, लगाया जाम

वृन्दावन, 08 अक्टूबर 2017,(VT) जिस समय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मानसी ध्यान केंद्र का उद्घाटन कर रहे थे, उसी समय आश्रम के पास यमुना खादर के पीड़ित सैकड़ों लोग प्रदर्शन कर रहे थे। बाद में पानीघाट चैराहे पर कुछ देर जाम भी लगाया। हालांकि सीएम ने आश्वासन दिया कि जिनके घर उजड़े हैं, उनके पुनर्वास की व्यवस्था प्रदेश सरकार करेगी। इसके लिए एनजीटी … [आगे पढ़ें...]

दक्षिण से पधारे ब्राहमणों ने कराया संकर्षण भगवान का अभिषेक

- ब्रज फाउण्डेशन के निर्देशन में बनाया गया है यह ऐतिहासिक कुण्ड - नादस्वर के बीच हुआ जलाभिषेक वृन्दावन, 05 अक्टूबर 2017,(VT) आखिर वह घड़ी आ ही गई, जिसका ब्रजवासियों को कई दिन से इंतजार था। आन्यौर स्थित परिक्रमा मार्ग मंगलवार को दक्षिण और उत्तर की शैली का गवाह बना। दक्षिण भारत के नादस्वरम के बीच ब्रज के दाऊ दादा संकर्षण भगवान का जलाभिषेक … [आगे पढ़ें...]

स्वर्ण-रजत गज पर विराजकर ठा. राधारमण लाल ने दिए दर्शन

वृन्दावन, 01 अक्टूबर 2017। नगर के सप्तदेवालय एवं अन्द मंदिरों में विजयादशमी दशहरा का पर्व मनाया। प्रत्येक ठाकुर जी का प्राचीन परम्परानुसार विशेष श्रृंगार किया गया, जिसे देख भक्त आनंदित हो उठे। सप्तदेवालय में से ठा. राधारमण मंदिर में भी विजयादशमी का पर्व मनाया पूरे उल्लास के साथ मनाया गया, इस अवसर पर  सायंकाल बेला में स्वर्ण-रजत गज पर … [आगे पढ़ें...]

श्रीराम के जयकारों से गूंजी धर्मनगरी, धूं-धूं कर जल उठा रावण

- बुराई पर अच्छाई की जीत  वृन्दावन, 01 अक्टूबर, 2017,(VT) भगवान श्रीकृष्ण ने द्वापर में जिस धरा पर अत्याचारी कंस का अंत किया था, उसी पर मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने अहंकारी रावण का वध कर दिया। अंतर सिर्फ इतना है कि कलियुग का ये रावण त्रेतायुग वाला वो लंकापति नहीं था, जिसने सीता माता का हरण किया था, बल्कि ये वह दशानन था, जो हमारे समाज … [आगे पढ़ें...]