राजा सावंत सिंह (नागरीदास) : साँझी कला के उन्नायक एक महाराजा, जो श्रेष्ठ कवि और चित्रकार भी थे (बणी—ठणी : जो बन गई हिन्दुस्तान की मोना​लिसा)

  वृन्दावन, साँझी एक लोकानुष्ठान है , जो प्राय: पूरे उत्तर भारत में पितृपक्ष के दौरान संध्या के समय कुँवारी कन्याओं के द्वारा मनाया जाता है । इस के केन्द्र में है लोकचित्रण , जिस में पूरे पितृपक्ष भर भित्ति पर गाय के गोबर व मिट्टी आदि से प्रत्येक दिन नई आकृतियाँ बनाई जातीं हैं । लेकिन ब्रज की देवालयी संस्कृति में साँझी का नवाचार … [आगे पढ़ें...]

ब्रज के मंदिर और देवालय सांझी के रंगों में रंगने को सरोबार

- ठाकुर जी को रिझाने के लिए सांझी के पुराने घराने मंदिर और देवालयों में सजेगी सांझी - सांझी फूल, गोबर, रंग, पानी के ऊपर, पानी के नीचे बनाई जाती है वृन्दावन, 07 सितम्बर 2017,(VT) जहां पितृ पक्ष में कोई भी नया कार्य प्रारम्भ नहीं किया जाता है वहीं वृन्दावनीय रसोपसना में पितृ पक्ष में उत्सव का माहौल रहता है, पितृ पक्ष में ब्रज के मंदिर … [आगे पढ़ें...]

एनजीटी द्वारा गठित टीम ने किया गोवर्धन दौरा, विभिन्न प्रश्नों पर अधिकारी रहे निरूतर

- दानघाटी पर चढ़ रहे दूध की दुर्गंध एवं शिकायत शैंपल - अतिक्रमण के कब्जे कुण्डों की स्थिति एवं गिरती गंदगी देख जाहिर की नाराजगी - विभिन्न क्षेत्रों में अतिक्रमण को देख अफसरों को लगाई फटकार वृन्दावन, 05 सितम्बर 2017,(VT) श्रीगिरिराज नगरी में बड़े पैमाने पर हुए अवैध अतिक्रमणों को लेकर नाराजगी जाहिर कर चुके नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा … [आगे पढ़ें...]

मुहिमः 2 बुर्जी-2 चबूतरे क्या बस यही पहचान है प्राचीन कोरिया घाट की

मुहिमः *यमुना की विरासत, हमारी धरोहर* -प्राचीन कोरिया घाट अस्तित्व बड़ा ही गौरवशाली रहा है,  - बदहाल पड़े इन प्राचीन धरोहरों को देखकर चितिंत होते है तीर्थयात्री एवं बाहरी श्रद्धालु वृन्दावन, 02 सितम्बर 2017,(VT) वैसे तो श्रीधाम वृन्दावन तीर्थों के मुकुटमणि के नाम से प्रसिद्ध हैं, भगवानश्रीकृष्ण ने इस दिव्य स्थल पर अपनी विभिन्न … [आगे पढ़ें...]

विश्वकोष ने हेमचन्द्र विक्रमादित्य से जुड़े ब्रजभाषा के प्राचीन अप्रसारित संदर्भों को किया रेखांकित

 -पांच दिवसीय कार्यशाला में विद्वतजनों ने ​लिया भाग वृन्दावन, 27 अगस्त 2017,(VT) वृन्दावन शोध संस्थान की कार्यशाला के अवसर पर आयोजित पांच दिवसीय प्रदर्शनी ‘हेमचन्द्र विक्रमादित्य ब्रज संस्कृति तथा भारतविद्या के संदर्भ में’ प्रदर्शनी का शनिवार को समापन हुआ। शनिवार को विश्वकोष में जानकारी प्राप्त करने आये शांता पद्म माध्यमिक विद्यालय के … [आगे पढ़ें...]

श्रीवाराह देव जयन्ती के अवसर पर हरित सम्मान समारोह से सम्मानित हुई 5 विभूतियां

-जयंती पर खूब नाचे कूदे श्रीवाराह देव -हरित मंदिर इस्काॅन मंदिर, हरित विद्यालय समविद् गुरूकुलम्, हरित लेखक अशोक बंसल, हरित मुहिम ब्रजमंडल हैरिटेज कंजर्वेशन सोसाइटी, हरित एक्टिविस्ट हेमंत अग्रवाल -यू.पी.पी.सी.बी. के डॉ. अरविंद कुमार ने संस्था को सवा लाख पौधे देने की घोषणा की, वृक्षारोपण के लिए निःशुल्क उपलब्ध कराए जाएंगे … [आगे पढ़ें...]

मुहिम: अस्तित्व गंवाने की कगार पर पौराणिक प्रस्कंदन घाट एवं सूरज घाट

-मुहिम: *यमुना की विरासत, हमारी धरोहर* - कालियामर्दन पश्चात् श्रीकृष्ण के शरीर से यमुना जल की बूदें गिरी, उसी स्थान को प्रस्कंदन घाट का नाम दिया गया था - 12 सूर्य भगवान को गर्मी देने को पहुंचे, उसे द्वादशआदित्य टीला  कहते है।  वृन्दावन, 25 अगस्त 2017,(VT) वृन्दावन की सबसे प्राचीन धरोहर एवं मंदिर मदनमोहन मंदिर हैं। मदन मोहन … [आगे पढ़ें...]

अव्यवस्थित विकास की राह तले दम तोड़ती धरोहरें: सुप्रीम कोर्ट

-रेलवे द्वारा दाखिल याचिका में 450 पेड़ काटे जाने हैं- विकास की राह तले खोता पर्यावरण- सुप्रीम कोर्ट  - केन्द्र एवं राज्य सरकार के आपसी सामंजस्य के चक्कर प्रदूषित हो रही नदियां  - टीटीजेड के अधिकारी गहरी नींद में सोए हुए  वृन्दावन, 19 अगस्त 2017,(VT) सरकारी अधिकारी लापरवाह हैं, हम अपनी धरोहर को बचाने में लगातार असफल होते जा … [आगे पढ़ें...]

71 फुट लम्बे राष्ट्रीज ध्वज थामे आरएसएस कार्यकर्ताओं के जोशीले नारों से गूंजी वृन्दावन परिक्रमा

वृन्दावन, 14 अगस्त 2017,(VT) शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा स्वतंत्रता दिवस से पूर्व एक परिक्रमा शहीदों के नाम शुरू की गई। जिसमें विद्यालय के बच्चों ने भाग लेकर परिक्रमा लगाई। उमंग और उत्साह से लवरेज संघ के कार्यकर्ता एवं परमेश्वरी देवी धानुका के विद्यालय के छात्र-छात्रा रैली में 71 फुट लंबे राष्ट्रीय … [आगे पढ़ें...]

’देखौ देखौ री नागर नट निरतत कालिन्दी तट’, नंददास तहं गावै निपट निकट’

-अष्टछाप के प्रमुख कवियों में एक श्रीनन्ददास जी महाराज जन्म जयंती विशेष आलेख... -जिस कविता में हरि के यश का रस न मिले, उसे सुनना ही नहीं चाहिये-श्री नंददास जी महाराज -नंददास जी 16वीं सदी के अंतिम चरण के प्रसिद्ध कवि, श्री नन्ददास जी भक्तिरस के पूर्ण मर्मज्ञ और ज्ञानी थे  वृन्दावन, 14 अगस्त 2017,(VT) श्रीनन्ददास जी महाराज जो कि … [आगे पढ़ें...]