चिल्लर पार्टी देगी जल संचयन का संदेश

मथुरा, जागरण संवाददाता: देखत में छोटे लगे, घाव करें गंभीर। स्कूली बच्चे गैंग बनाकर इसी कहावत को चरितार्थ करने में जुट गए हैं। घर के बड़ों द्वारा पानी की बर्बादी करने से गुस्साए यह बच्चे नुक्कड़ नाटक कर उन्हें यह बताएंगे कि इसी तरह पानी बर्बाद करते रहे तो भविष्य में गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे। बच्चों ने इसके लिए कोवेलन्ट किड्स ग्रुप नाम … [आगे पढ़ें...]

जिंदगी के बसंत में वृक्षों की बहार

मथुरा (DJ): पेड़ों के लिए प्रसिद्ध नगरी के एक शख्स को वृक्षों से ऐसा प्यार हुआ कि जिंदगी के हर बसंत में वह इनकी बहार के लिए काम करते हैं। यह हैं पर्यावरण प्रेमी यामिनी रमण आचार्य। उन्होंने अपने जीवन के 55 बसंत में सैकड़ों पेड़-पौधे न केवल अपने मकान और आसपास रोपे, बल्कि दूसरों के लिए भी प्रेरणा के स्नोत बन गए। जहां सरकारी विभागों द्वारा … [आगे पढ़ें...]

धरा की ठंडक को पौधों का आसरा

6 जिले को 515 हेक्टेयर भूमि में 3.41 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य मथुरा, निज संवाददाता (DJ) : वनों की नगरी कहलाने वाला ब्रज भी कंक्रीट के जंगलों में तब्दील हो चला है। पेड़ों पर चलती आरी से धरती का सीना छलनी हो रहा है। ऐसे में शासन की मंशा है कि ब्रज में पौधों की कतार को विकसित किया जाए। धरती को संजीवनी देने के लिए वर्ष 2012-13 में जनपद के … [आगे पढ़ें...]

ऊधर में सूख गए 10 हजार कदम्ब

मथुरा, 2011.08.10 (DJ): बृजक्षेत्र के गांव ऊधर में दस हजार कदम्ब पौधे रोपकर कदम्बखंडी तैयार करने की योजना को उनके जाते ही भुला दिया गया। बृजक्षेत्र की पहचान कहे जाने वाले कदम्ब के पेड़ों को रोपकर कदम्बखण्डी तैयार की जानी थी। इसके लिए तत्कालीन मुख्य विकास अधिकारी अजय शंकर पाण्डेय द्वारा ब्लॉक राया के ऊधर गांव को चुना था। बताते चलें की ऊधर … [आगे पढ़ें...]

हरियाली पर फिर संकट

मथुरा, 2011.04.20 (DJ): गर्मियों में जब तापमान चालीस डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुंचेगा, तब हरियाली खत्म होना शुरू हो जाएगी। इन हालातों में नये पौधों को बचाने के लिए वन विभाग के पास संसाधनों की कमी है। दिनरात दौड़ धूप करने के बाद भी पौधों को बीस दिन में एक बार भी पानी नहीं मिल पाएगा। मई और जून में तापक्रम के चालीस डिग्री सेल्सियस के ऊपर … [आगे पढ़ें...]

अस्तित्व संकट में बंशी वट का

मांट, 2011.04.15 (DJ): भगवान श्री कृष्ण ने अपने बाल्यकाल का सर्वाधिक समय जिस बंशी वट पर व्यतीत किया, वहां अब एक पल ठहरने लायक नहीं है। जिला प्रशासन व पर्यटन विभाग की उदासीनता से इसका अस्तित्व दांव पर लगा हुआ है। माना जाता है कि श्रीकृष्ण की लीलाओं के साक्षी रहे वृक्ष आज भी इस स्थान पर मौजूद हैं, यही कारण है कि यूपी, हरियाणा, पंजाब, … [आगे पढ़ें...]

यमुना स्वच्छता को बनने लगा कारवां

मथुरा,जागरण संवाददाता: यमुना मित्र योजना को लेकर अब खुद ग्राम पंचायतें आगे आने लगी हैं। गांव कोयला अलीपुर में ग्राम प्रधानों और सदस्यों की उमड़ी भीड़ ने उनके उत्साह के प्रमाण दे दिये। उनके उत्साह को बढ़ाने पहुंचे मुख्य विकास अधिकारी ने योजना में पूरी मदद करने का भरोसा दिलाया। इतना ही नहीं ग्रामीणों को पौधारोपण के प्रति भी जागरूक … [आगे पढ़ें...]