हरी छटा में विराजे राजाधिराज की छवि ने मोहा मन

वृन्दावन, 24 जुलाई 2017(VT) द्वारिकाधीश मंदिर के विभिन्न छटाओं की श्रृंखला में रविवार को हरियाली अमावस्या के अवसर पर हरी छटा सजाई गई। हरी छटा के मध्य विभिन्न प्रकार के सुगंधित पुष्पों से निर्मित भव्य एव विशाल तीन हिंडोले सजाए गए, जिसमें मध्य वाले हिंडोले में राजाधिराज को विराजा गया, हिंडोले में विराजे राजाधिराज की छवि को निहारने के लिए … [आगे पढ़ें...]

तीज पर स्वर्ण-रजत हिंडोले में विराजेंगे ठा. बांकेबिहारी

वृन्दावन, 24 जुलाई 2017(VT) ठा. बांकेबिहारी जी महाराज बुधवार को हरियाली तीज के अवसर पर हरी छटा में स्वर्ण-रजत हिंडोले में विराजकर भक्तों को दर्शन देंगे। मंदिर प्रबंध के अनुसार हरियाली तीज की सारी व्यवस्थाएं पूर्ण कर ली गई हैं, हरियाली तीज के अवसर पर मंदिरों को दुल्हन की तरह सजाया जाएगा, सायंकाल में स्वर्ण-रजत हिंडोले में ठा. … [आगे पढ़ें...]

ठा.बांकेबिहारी बुलाते हैं, मैं चला आता हूं — गोविंदा

-ठा.बांकेबिहारी की शरण में पहुंच फिल्म अभिनेता गोविन्दा वृन्दावन 22.07.2017 (V.T.) , फिल्म अभिनेता गोविन्दा शुक्रवार शाम वृन्दावन पहुंचे। यहां उन्होंने ठा.बांकेबिहारी मंदिर में दर्शन कर पूूजा अर्चना की और अपनी आने वाली फिल्म की सफलता की मनौती मांगी। पत्रकारों से वार्ता करते हुए गोविन्दा ने कहा कि ठा.बांकेबिहारी जी जब उन्हें बुलाते … [आगे पढ़ें...]

केसरिया छटा में ​विराज राजाधिराज ने दिए दर्शन

वृन्दावन, 22 जुलाई 2017(VT) केसरिया छटा के साथ राजाधिराज ने दर्शन छटा उत्सव का शुभारम्भ कर दिया। श्रीकृष्ण जन्मभूमि में 24 जुलाई को घटाओं का आरंभ होगा । लौकिक जगत के अलौकिक तपोवन टटिया स्थान में 26 जुलाई को मोहिनी बिहारी जी चांदी के झूले में सुबह-शाम दोनों समय झोटा लेंगे। प्रभु के सेवकों ने विश्व प्रसिद्ध द्वारिकाधीश मंदिर में … [आगे पढ़ें...]

सावन सोमवार पर विशेष: महारानी अहिल्या बाई होल्कर ने प्रथम बार शिवलिंग के प्रतीक चिह्न को सिक्कों पर कराया अंकित

वृन्दावन, 17.07.2017 (V.T.) ब्रज संस्कृति शोध संस्थान,वृन्दावन में संग्रहीत यह दुर्लभ चाँदी का रुपया इंदौर की प्रसिद्ध महारानी अहिल्या बाई होल्कर ( सन् 1765 ई० - सन् 1795 ई० ) का है, जिस की विशेषता यह है कि रुपया तो तत्कालीन परम्परा के अनुसार मुगल बादशाह के नाम पर ही फारसी अभिलेख के साथ जारी किया गया है, परन्तु महारानी ने टकसाल चिह्न के … [आगे पढ़ें...]

श्रीलोकनाथ गोस्वामी पाद तिरोभाव महोत्सव विशेषः चैतन्य महाप्रभु से पूर्व ब्रज पधारे थे श्रीलोकनाथ गोस्वामी पाद

वृन्दावन, 17 जुलाई 2017 (VT) श्रीलोकनाथ गोस्वामी का जन्म श्रीअद्वैताचार्य जी के शिष्य श्री पद्मनाभ भट्टाचार्य एवं सीता देवी के पुत्र के रूप में बांग्लादेश के जैसोर के ग्राम में सं. १५४० में हुआ था। पिताजी से ही व्याकरण आदि का अध्ययन करके ग्रंथो के अध्ययन के लिये शांतिपुर निवासी श्री अद्वैताचार्य जी की पाठशाला में गए। श्री गौरांग महाप्रभु … [आगे पढ़ें...]

भाव उठौ हियै राधिकै के मन वन मोर नचै नंदराय को छैय्या…

-मयूर आसन निकुंज में विराजै ठा.राधारमण लाल वृन्दावन, 29 जून, 2017, (VT) : निकुंज प्रविष्ट जगद्गुरू श्री पुरूषोत्तम गोस्वामी जी महाराज के संकल्प तथा प्रेरणानुसार श्रीश्रीराधारमण लाल जू का 475वां ग्रीष्म निकुंुज सेवा महामहोत्सव अपने चरम पर है। बुधवार देर सायं ठा.राधारमण लाल ने मयूर आसन निकुंज में विराजमान होकर भक्तों को दर्शन … [आगे पढ़ें...]

जय जगन्नाथ के जयकारों से गूंजी धर्मनगरी वृन्दावन

वृन्दावन, 27.06.2017 (VT) : पिछले 15 दिन से बीमार चल रहे भगवान जगन्नाथ ने रथयात्रा के अवसर पर बहिन सुभद्रा एवं भाई बलराम के साथ रथ में विराजमान होकर रविवार को भक्तों को दर्शन दिए। 15 दिन बाद अपने प्यारे का दर्शन कर भक्त आनंद से झूमते नजर आए। धर्मनगरी वृंदावन रथयात्रा के अवसर पर जय जगन्नाथ के जयकारों से गुंजायमान हो उठी। 15 दिन बाद … [आगे पढ़ें...]

भगवान जगन्नाथ रथयात्रा के रूटचार्ट में जर्जर मार्ग और झूलते तारों के कारण पहली बार हुआ बदलाव

  -नगर निगम की लापरवाही का नतीजा वृन्दावन, 2017.06.23 (VT), वृन्दावन के इतिहास में पहली बार भगवान जगन्नाथ का रथ बाजारों से होकर नहीं निकल पाएगा। रथयात्रा के लिए इस बार नया रूट तैयार किया गया है। यह नगर निगम की लापरवाही का नतीजा है। नगर के खराब मार्ग एवं झूलते विद्युत तारों के कारण मंदिर प्रबंधन ने इस बार रथयात्रा के रूट में … [आगे पढ़ें...]

श्याम माने चाखर राखौ जी, वृन्दावन की कुंजगलिन में….

-सोपान कुंज में विराजमान हो ठा.राधारमण लाल ने दिए दर्शन वृन्दावन, 23 जून, 2017 (VT): निकुंज प्रविष्ट जगद्गुरू श्री पुरूषोत्तम गोस्वामी जी महाराज के संकल्प तथा प्रेरणानुसार श्रीश्रीराधारमण लाल जू का 475वां ग्रीष्म निकुंज सेवा महामहोत्सव के अन्तर्गत गुरूवार को सायं हो रही भजन संध्या/राग सेवा ने सभी भक्तजन एवं श्रद्धालुओं का मन मोह … [आगे पढ़ें...]