मथुरा-वृन्दावन के सभी नाले होंगे युद्धस्तर पर टेप, नए एसटीपी का भी होगा निर्माण

– प्रमुख सचिव शहरी विकास ने किया मथुरा-वृंदावन का निरीक्षण
– अधिकारियों को फटकार, गोवर्धन में मानसी गंगा व बरसाना में मातारानी गोशाला भी गए
वृन्दावन, 06 फरवरी 2018, (VT) शहरी विकास विभाग के प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह ने रविवार को मथुरा-वृंदावन के सभी नालों को टेप करने और नए एसटीपी बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने एसटीपी के दोयम संचालन पर नगर निगम व जल निगम अधिकारियों की क्लास भी लगाई। उन्होंने गोवर्धन में दानघाटी मंदिर से नालियों में जा रहे दूध के उचित निस्तारण के लिए सुझाव लिए और बरसाना में माता रानी गोशाला का निरीक्षण भी किया। उनके आगमन पर नगर निगम और जल निगम कार्यालय पूरे दिन खुले रहे।
प्रमुख सचिव ने रविवार को मथुरा-वृंदावन, गोवर्धन और बरसाना में निरीक्षण किया। इससे पहले वृंदावन में परिक्रमा मार्ग स्थित राजपुर खादर में बना सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट भी देखा। यहां टटिया स्थान और गुरुकुल की ओर से आने वाले नालों को टेप करके प्लांट से जोड़ा गया है। इन नालों का निरीक्षण करने के बाद प्रमुख सचिव ने परिक्रमा मार्ग में आठ साल पहले बिछाई गई सीवर लाइन को चेक किया।
उन्होंने अधीनस्थों को जल्द ही शहर के सभी नालों को जोड़कर एसटीपी और सीवेज पंपों के सहारे पागल बाबा स्थित नवीन 8 एमएलडी के सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट तक पहुंचाने के निर्देश दिए। यहां पानी को ट्रीट कर खेती के योग्य बनाया जाएगा। कहा कि नालों को टेप करने का काम युद्धस्तर पर शुरू होगा।
अंत में उन्होंने यमुना पार स्थित सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट देखा और निर्देश दिए कि सालिड वेस्ट मैनेजमेंट की उचित व्यवस्था की जाए। इसके लिए डेढ़ एकड़ जगह लेकर जल्द काम शुरू करने को कहा। उन्होंने नए एसटीपी बनाने के लिए भी कहा। इस मौके पर जल निगम और नगर निगम के अधिकारियों की एसटीपी संचालन में हीलाहाली पर क्लास भी ली। उन्होंने फाइलों और जन समस्याओं के त्वरित निस्तारण के निर्देश भी दिए।
यहां पार्षद उमेश भारद्वाज ने सचिव को ज्ञापन देकर यमुना में प्रदूषित जल जाने और एसटीपी संचालन में नगर निगम की धनराशि के दुरुपयोग की शिकायत की थी। प्रमुख सचिव ने उन्हें समस्याओं के निस्तारण का आश्वासन दिया। इस मौके पर उनके साथ पार्षद कुसुमलता के पति राजीव सिंह भी मौजूद रहे। प्रमुख सचिव के आगमन पर नगर निगम और जल निगम के कार्यालय रविवार के अवकाश में खुले रहे।
निरीक्षण के दौरान नगर आयुक्त डॉ. उज्जवल कुमार, जलकल महाप्रबंधक मंजू गुप्ता, चीफ इंजीनियर पीके मित्तल, जल निगम के अधिशासी अभियंता निजामुद्दीन, निगम के अवर अभियंता दुष्यंत कुमार मौजूद थे। DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *