पागलबाबा स्थित कूड़ाघर में बने गड्ढे में गिरने से दो बैलों की हुई मौत

– नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशानुसार कूड़े को सुरक्षित रखने के लिए बनवाए गए थे (गड्ढे़)  
वृन्दावन, 03 जनवरी 2018,(VT) वृन्दावन का कूड़ा संहरण केन्द्र अब बैलों का मैदान बनता जा रहा है। वहां पर स्थित कूड़े को सुरक्षित रखने के लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशानुसार बड़े-बड़े गड्ढे (यार्ड) बनवाये गये थे, लेकिन उनमें कूडा रखने की बजाय नगर में विभिन्न मार्गों एवं यमुना किनारों पर कूड़ा जलाकर एवं फिकवाकर निस्तारित किया जा रहा है तो बने उन गड्ढों में बैल गिरकर घायल हो रहे है। अभी हाल ही में दो बैल कूड़ा संहरण क्षेत्र में स्थित बने बड़े-बड़े गड्ढों में गिर गए, किसी को पता न होने की स्थिति में उन बैलों की मृत्यु हो गई।
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के आदेशानुसार नगरपालिका परिषद्, वृन्दावन द्वारा 67 ग् 70 मीटर ग् 5 मीटर और 9.5 ग् 9.5 मीटर ग् 5 मीटर के बड़े-बड़े गड्ढे़ कूड़े को सुरक्षित करने के लिए बनवाए गये थे। लेकिन मथुरा-वृन्दावन नगर निगम की लापरवाही के चलते कूड़ा तो उचित स्थान पर निस्तारित नहीं हो रहा लेकिन हां जरूर वह स्थान आवारों पशुओं के लिए रणभूमि बनती जा रही है।
वृन्दावन में समय-समय पर कूड़े को निस्तारित करने के लिए विभिन्न योजनायें बनाई गई थीं, ग्रीन ट्रिब्यूनल की कई फटकारों पर नगर निगम ने कूड़े को सही निस्तारण के लिए विभिन्न सुझाव दिए, लेकिन कोई भी सुझाव फिलहाल धरातल पर उतरता नहीं दिख रहा हैं, और आयेदिन कूड़ा खुलेआम सड़कों, नालियों एवं यमुना किनारे निस्तारित किया जा रहा है।
वृन्दावन टुडे की टीम ने सफाई निरीक्षक से बात की तो उन्होंने बताया कि कूड़े को संहरण क्षेत्र तक पहुंचाया जा रहा हैं, कूड़े में आग लगाने वालों एवं यमुना किनारे कूड़ा निस्तारित करने वालों के ऊपर माननीय न्यायालय के आदेशानुसार कठोर कार्यवाही की जायेगी और उन्होंने मामले में जांच करने के आदेश दिए है। DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *