कैंसर रोग से छुटकारा दिलाएगा रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम

– तीन वर्षों में 150 से अधिक कैंसर रोगियों का किया इलाज   

-ब्रज मण्डल के रोगियों के लिये खुशखबरी

– रोगियों में मुंह, गला, स्तन, आंत, अंडाशय, ग्रीवा, गर्भाशय कैंसर आदि के रोगी थे शामिल
– मरीजों की सेवा के लिये मिशन 109 साल से दे रहा अपनी सेवा
वृन्दावन, 02 जनवरी 2018,(VT) चिकित्सा विभाग के लापरवाह सिस्टम से जूझ रहे जिले के लोगों के लिए राहत भरी खबर है। रामकृष्ण मिशन जल्द ही कैंसर के मरीजों को मुफ्त में वृहद कैंसर चिकित्सा देने जा रहा है। इसके लिए 4 जनवरी को बकायदा कैंसर यूनिट का शुभारंभ किया जाएगा। इस यूनिट में कैंसर पीड़ितों की निःशुल्क पूरा उपचार दिया जाएगा।
ब्रजमंडल में मरीजों की सेवा के लिए रामकृष्ण मिशन का अस्पताल 109 साल से अपनी सेवा दे रहा है। इस अवधि में इस अस्पताल ने जिले में एक बेहतर चिकित्सा सिस्टम की कमी के रिक्त स्थान को भरा है। सामान्य और हृदयरोग के उपचार में महारथ हासिल करने के बाद अस्पताल अब कैंसर जैसे असाध्य रोग के उपचार करने की शुरूआत करने जा रहा है।
कैंसर से जूझ रहे ऐसे लोग जो इस असाध्य रोग का खर्चा वहन नहीं कर सकते उन्हें अस्पताल में भर्ती रखने के अलावा जिले के दसों ब्लॉक में टेली मेडिसिन यूनिट के जरिए कैंसर, शुगर और हाइपरटेंशन का उपचार करने की भी योजना अस्पताल ने बना ली है। आगामी 4 जनवरी को अस्पताल के कैंसर यूनिट का लोकार्पण प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा करेंगे।
मथुरा मार्ग पर स्थित रामकृष्ण मिशन सेवाश्रम के उप सचिव स्वामी कालीकृष्णानंद ने बताया कि कैंसर के उपचार में सर्जरी, कीमोथैरेपी, रेडियोथैरेपी जैसे उपचार शामिल हैं। इसलिए यह एक व्यापक, महंगी ओर कठिन उपचार प्रक्रिया है। रामकृष्ण मिशन अस्पताल में कैंसर मरीजों के लिए अभी तक ओपीडी सेवा ही काम कर रही थी। इस सेवा को अस्पताल ने 2014 में शुरू किया था। फोर्टीज अस्पताल के कैंसर विशेषज्ञ डॉ. मनदीप एस मल्होत्र और डॉ. दीपक झा तक यहां महीने में एक दिन आते थे। बाद में इस प्रयास को डॉ. पालनी, डॉ. पारस और डॉ. आरएन मित्तल के योगदान से प्रोत्साहन मिला। इन तीन वर्षों में 150 से अधिक कैंसर रोगियों का इलाज किया गया।
इन रोगियों में मुंह, गला, स्तन, आंत, अंडाशय, ग्रीवा, गर्भाशय कैंसर आदि शामिल हैं। अब अस्पताल में स्वतंत्र तौर पर एक कैंसर यूनिट खोली जा रही है। इसमें उच्च एलक्ष्डी ओटी लाइट्स के साथ ऑपरेशन थिएटर, उन्नत कोलोस्कोपी मशीन स्थापित की गई है। एंडोस्कोपी, मैमोग्राफी मशीन और सीटी स्कैनर की सुविधा भी शुरू हो चुकी है। कैंसर यूनिट के लिए एक निजी वार्ड के साथ 8 बिस्तर का आइसीयू, वेंटीलेटर शुरू कर दिया गया है।
अस्पताल में कैंसर उपचार सर्जरी और कीमोथैरेपी के रूप में किया जा रहा है। रेडियोथैरेपी चिकित्सा अलीगढ़ मुस्लिम विवि, एसएन मेडिकल कॉलेज आगरा और जेके कैंसर संस्थान कानपुर के सहयोग से दी जा रही है। चेहरे के पुनर्निर्माण के साथ ओरल और गले के कैंसर, स्तन संरक्षण और पुनर्निर्माण, लैप्रोस्केपिक स्त्रीरोग कैंस के शोधन जैसी जटिल सर्जरी सफलतापूर्वक की जा रही है।
अंतरराष्ट्रीय प्रोटोकॉल और शांतिपूर्ण माहौल के अनुसार रोगियों को कीमोथेरैपी प्राप्त कराने के लिए अस्पताल में एक कैमोथेरैपी डेकेयर की स्थापना की गई है, जो कि एक कारपोरेट सेटअप की तुलना में अधिक किफायती है। शुरू होगी टेलीमेडिसिन यूनिटरू स्वामी कालीकृष्णानंद ने बताया कि मार्च के महीने से जनपद के दसों ब्लॉक में टेली मेडिसिन यूनिट की स्थापना की जाएगी। इनमें कैंसर, शुगर व हाइपरटेंशन के रोगियों का उपचार टेली मेडिसिन के जरिए किया जाएगा। जिन रोगियों को यूनिट पर ही दवा दी जा सकती है, उनका उपचार वहीं होगा। इसके अलावा भर्ती करने के लिए अस्पताल की वैन से उन्हें लाया जाएगा। टेलीमेडिसिन यूनिट में जरूरत पड़ने पर मौके पर मौजूद चिकित्सा विशेषज्ञों से मरीज की रिपोर्ट के आधार पर सलाह भी ले सकेंगे।
इसके अलावा दो बड़ी मोबाइल मेडिकल यूनिट वोल्वो बसों में तैयार करवाई गई हैं। इसमें तीन क्लीनिक, एक लैब और एक फार्मेसी के अलावा आई केयर यूनिट और चिकित्सा विशेषज्ञ, स्टाफ नर्स और पैरामेडिकल स्टाफ दो काउंसलर मौजूद रहेंगे। टेलीमेडिसिन यूनिटों पर समय-समय पर पहुंचकर उपचार और जांच करेंगी। ये यूनिट मार्च के महीने से शुरू होगी।  DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *