भागवत सिखाने के नाम पर चार माह तक करता रहा दुराचार, जमकर हुई पिटाई

– महिलाओं के वीडियो बनाकर करता था ब्लैकमेल

वृन्दावन, 29.12.2017 (VT Staff), वृन्दावन में किराये पर रह रहे एक भागवताचार्य का अश्लील कृत्य सामने आया है। महाराष्ट्र के पुणो और कलवा शहर की दो युवतियों को भागवत कथा सिखाने लाया आचार्य चार माह उनकी अस्मत से खेलता रहा। उसने युवतियों के अश्लील वीडियो व फोटो खींच कर उन्हें ब्लैकमेल किया। बुधवार को पीड़ित युवतियों के परिजनों ने आकर उसकी जूते-चप्पलों से पिटाई की और पुलिस के सुपुर्द कर दिया।

महाराष्ट्र के बीड जिले के गांव लाहोरी निवासी भागवताचार्य वासुदेव शास्त्री (32) करीब चार साल पहले वृन्दावन आया और यहां मोतीझील इलाके में प्राणबल्लभ गोस्वामी के यहां किराये पर रहने लगा। वृन्दावन में भागवत कथा सीख कर उसने महाराष्ट्र में भागवत कहना शुरू कर दिया। महाराष्ट्र के लोग उस पर विश्वास करने लगे। चार माह पहले वह पुणे और कलवा जिले की दो युवतियों को भागवत कथा सिखाने की कहकर वृन्दावन ले आया। दोनों को एक अन्य मकान में ठहरवाया दिया। उसने युवतियों की मोबाइल से आपत्तिजनक फोटो खींच लिए और वीडियो बना लिया। जिन्हें सार्वजनिक करने की धमकी देकर दोनों से संबंध बना लिए। साथ ही किसी से कहने पर परिजनों की हत्या करने की धमकी दी। उसने युवतियों के मोबाइल भी छीन लिए। युवतियों ने मकान मालिक की पत्नी की मदद से अपने परिजनों को आपबीती बताई। दोनों के परिजन वृन्दावन आ गए और भागवताचार्य को दबोच लिया। उसकी सरेआम जूते-चप्पलों से पिटाई की।

इंस्पेक्टर वृन्दावन सुबोध सिंह ने बताया कि आरोपी के खिलाफ युवतियों को बंधकर बनाकर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कर लिया है, उसे गिरफ्तार भी कर लिया है। उसके मोबाइल में मिलीं अश्लील वीडियो और तस्वीर की जांच कराई जा रही है। युवतियों का मेडिकल परीक्षण कराया जा रहा है।
—————————–

पहले भी कई युवतियों का कर चुका है जीवन तबाह

वृन्दावन, वृन्दावन में संस्कृत की पढ़ाई और भागवत सीख कर महाराष्ट्र के लोगों का विश्वास जीतकर भगवताचार्य पहले भी कई युवतियों को जीवन बर्बाद कर चुका है। महाराष्ट्र के बीड जिल के लडूरी और अहमदनगर में अपने आश्रम के जरिए युवतियों को अपने चंगुल में फंसाने के बाद उनका शारीरिक और आर्थिक शोषण करता था। आरोपी के घीसा संत महामंडल वृन्दावन से भी गहरे ताल्लुकात हैं।

वृन्दावन के श्रीनाथ धाम गांधी मार्ग में वासुदेव शास्त्री चार पहले संस्कृत की पढ़ाई और भागवत कथा सीखने आया था। तभी से वह महाराष्ट्र से तीर्थयात्रियों को वृन्दावन दर्शन कराने लेकर आने लगा और यहां घीसा संत महामंडल में उन्हें ठहराने लगा। बीड जिले के लडूरी और अहमदनगर में उसने अपने आश्रम भी बना लिए थे। आश्रम से ही वह अपनी गतिविधियों चलाता था। आश्रम के जरिए वह महाराष्ट्र के लोगों को अपने प्रभाव में लेता और उन्हें धार्मिक यात्र पर यहां लाकर भागवत कहने लगा। चार साल में उसने अपना अच्छा-खासा नेटवर्क महाराष्ट्र से लेकर वृन्दावन तक बना लिया था। उसने महाराष्ट्र के लोगों को बताया कि वृन्दावन में वह भागवत कथा भी सिखाने का काम भी करता है। पड़ोसियों ने बताया कि इससे पहले भी वह भागवत सिखाने के नाम पर कई युवतियों को लेकर यहां आया। उनका कहना था कि पहले यहां रही युवतियों के साथ भी उसकी संदिग्ध गतिविधियां देखी गई थीं। किसी युवती ने कोई एतराज नहीं किया, इसलिए पड़ोसी भी खामोश रहे थे। भगवताचार्य वासुदेव शास्त्री की करतूत सामने आने पर लोग उसकी घिनोनी हरकतें उजागर कर रहे हैं। सच्चाई तो पुलिस तहकीकात के बाद सामने आएगी, लेकिन बताया यह जा रहा है कि भागवत कथा की आड़ में वह युवतियों को चंगुल में फंसाता था और फिर उनकी अश्लील तस्वीरें और वीडियो बनाकर उनका शारीरिक और आर्थिक शोषण करता था। 1इंस्पेक्टर वृन्दावन सुबोध सिंह ने बताया कि आरोपी से पूछताछ की जा रही है। पूछताछ में जो भी तथ्य सामने आएंगे, उनकी जांच की जाएगी। अगर गलत कार्यो में आरोपी के साथ उसके किसी सहयोगी का हाथ सामने आया, तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। 1बाबा नहीं शैतान है, इसे फांसी पर लटका दो रूअपनी बेटियों पर हुए अत्याचार की दास्तां सुनकर परिजन आक्रोशित हैं। एक युवती की मां चीख-चीख कर कह रही थी कि खुद को भगवताचार्य कहने वाला ये बाबा नहीं है, शैतान है। उसे फांसी पर लटकवा कर ही हम दम लेंगे। उसने बताया कि उसके परिवार के ज्यादातर सदस्य विदेश में नौकरी करते हैं, लेकिन बेटी की भागवत सीखने की इच्छा थी। इसलिए आरोपी के विश्वास पर अपनी बेटी को भेजा था, लेकिन उन्हें क्या पता था कि ये उनको परिवार की इज्जत को तार-तार कर देगा। उसने कहा कि वह आरोपी को उसके किए की सजा दिलाकर ही दम लेंगी। दूसरी पीड़िता के मामा-मामी बुरी तरह आहत थे और बार-बार पुलिस से आरोपी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग कर रहे थे।जागरण संवाददाता, वृंदावनरू वृन्दावन में संस्कृत की पढ़ाई और भागवत सीख कर महाराष्ट्र के लोगों का विश्वास जीतकर भगवताचार्य पहले भी कई युवतियों को जीवन बर्बाद कर चुका है। महाराष्ट्र के बीड जिल के लडूरी और अहमदनगर में अपने आश्रम के जरिए युवतियों को अपने चंगुल में फंसाने के बाद उनका शारीरिक और आर्थिक शोषण करता था। आरोपी के घीसा संत महामंडल वृन्दावन से भी गहरे ताल्लुकात हैं।1वृन्दावन के श्रीनाथ धाम गांधी मार्ग में वासुदेव शास्त्री चार पहले संस्कृत की पढ़ाई और भागवत कथा सीखने आया था। तभी से वह महाराष्ट्र से तीर्थयात्रियों को वृन्दावन दर्शन कराने लेकर आने लगा और यहां घीसा संत महामंडल में उन्हें ठहराने लगा। बीड जिले के लडूरी और अहमदनगर में उसने अपने आश्रम भी बना लिए थे। आश्रम से ही वह अपनी गतिविधियों चलाता था। आश्रम के जरिए वह महाराष्ट्र के लोगों को अपने प्रभाव में लेता और उन्हें धार्मिक यात्र पर यहां लाकर भागवत कहने लगा। चार साल में उसने अपना अच्छा-खासा नेटवर्क महाराष्ट्र से लेकर वृन्दावन तक बना लिया था। उसने महाराष्ट्र के लोगों को बताया कि वृन्दावन में वह भागवत कथा भी सिखाने का काम भी करता है। पड़ोसियों ने बताया कि इससे पहले भी वह भागवत सिखाने के नाम पर कई युवतियों को लेकर यहां आया। उनका कहना था कि पहले यहां रही युवतियों के साथ भी उसकी संदिग्ध गतिविधियां देखी गई थीं। किसी युवती ने कोई एतराज नहीं किया, इसलिए पड़ोसी भी खामोश रहे थे। भगवताचार्य वासुदेव शास्त्री की करतूत सामने आने पर लोग उसकी घिनोनी हरकतें उजागर कर रहे हैं। सच्चाई तो पुलिस तहकीकात के बाद सामने आएगी, लेकिन बताया यह जा रहा है कि भागवत कथा की आड़ में वह युवतियों को चंगुल में फंसाता था और फिर उनकी अश्लील तस्वीरें और वीडियो बनाकर उनका शारीरिक और आर्थिक शोषण करता था।

इंस्पेक्टर वृन्दावन सुबोध सिंह ने बताया कि आरोपी से पूछताछ की जा रही है। पूछताछ में जो भी तथ्य सामने आएंगे, उनकी जांच की जाएगी। अगर गलत कार्यो में आरोपी के साथ उसके किसी सहयोगी का हाथ सामने आया, तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। बाबा नहीं शैतान है, इसे फांसी पर लटका दो रूअपनी बेटियों पर हुए अत्याचार की दास्तां सुनकर परिजन आक्रोशित हैं। एक युवती की मां चीख-चीख कर कह रही थी कि खुद को भगवताचार्य कहने वाला ये बाबा नहीं है, शैतान है। उसे फांसी पर लटकवा कर ही हम दम लेंगे। उसने बताया कि उसके परिवार के ज्यादातर सदस्य विदेश में नौकरी करते हैं, लेकिन बेटी की भागवत सीखने की इच्छा थी। इसलिए आरोपी के विश्वास पर अपनी बेटी को भेजा था, लेकिन उन्हें क्या पता था कि ये उनको परिवार की इज्जत को तार-तार कर देगा। उसने कहा कि वह आरोपी को उसके किए की सजा दिलाकर ही दम लेंगी। दूसरी पीड़िता के मामा-मामी बुरी तरह आहत थे और बार-बार पुलिस से आरोपी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग कर रहे थे।
——————————

मथुरा पुलिस ने उच्चधिकारियों को किया गुमराह

वृन्दावन, यूपी पुलिस ने ट्विटर पर मथुरा पुलिस से इस संबंध में हुई कार्रवाई के बारे में जानकारी ली और जल्द रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई के निर्देश दिए। इस पर मथुरा पुलिस ने सुबह 11रू45 बजे उच्चधिकारियों को ट्विटर पर गुमराह किया कि वृन्दावन पुलिस ने अभियोग पंजीकृत कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि देर शाम तक रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई थी।

D.K.S. 

wpengine

This is the "wpengine" admin user that our staff uses to gain access to your admin area to provide support and troubleshooting. It can only be accessed से a button in our secure log that auto generates a password and dumps that password after the staff member has logged in. We have taken extreme measures to ensure that our own user is not going to be misused to harm any of our clients sites.

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *