आयेदिन आवारा पशुओं की लड़ाई से सबक नहीं ले रहा प्रशासन, फिर सांड़ों की हुई जंग, किशोरी गंभीर

– साड़ों की लड़ाई में सांसद हेमामालिनी भी बाल-बाल बची थी
वृन्दावन, 27 दिसम्बर 2017,(VT) मंगलवार की सुबह केशीघाट पर परिक्रमा पूरी कर अपने परिवार के साथ लौट रही महाराष्ट्र की श्रद्धालु किशोरी रास्ते में लड़ रहे सांड़ों की चपेट में आ गई। सांड़ का पैर चेहरे पर पड़ जाने से गंभीर रूप से घायल हुई किशोरी को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
साल के अंतिम दिनों में ठा. बांकेबिहारी के दर्शन करने को आए महाराष्ट्र के श्रद्धालु परिवार के सदस्य केशीघाट स्थित जानकी बल्लभ मंदिर में ठहरे हैं। मंगलवार की सुबह पूरा परिवार पंचकोसीय परिक्रमा कर केशीघाट से लौट रहा था कि गली में दो सांड़ों में लड़ाई हो गई। लड़ाई के बीच ही सांड़ इधर-उधर भगाने लगे। इसी बीच संजीव देसाई की 14 वर्षीय बेटी प्रीति चपेट में आ गई। प्रीति के चेहरे पर सांड़ का पैर पड़ गया। जिसके कारण बुरी तरह जख्मी हो गई। जख्मी हालत में प्रीति को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।
साल के अंतिम हफ्ते में नगर श्रद्धालुओं की भीड़ से गुलजार है। मंदिर, मठ और आश्रमों में ठहरे श्रद्धालु दर्शन कर पंचकोसीय परिक्रमा कर रहे हैं। लेकिन बाजार में श्रद्धालुओं की भीड़ के लिए सबसे बड़ी मुसीबत छुट्टा पशु बन रहे हैं। ठा. बांकेबिहारी मंदिर के समीप छुट्टा पशुओं के झुंड से बचकर निकल पाना श्रद्धालुओं के लिए आसान नहीं हो रहा। ठाकुरजी के प्रसाद और माला पर झपट्टा मारते ये पशु उन्हें चुटैल कर रहे हैं। ऐसे कई मामले सामने आ रहे हैं।
मगर, नगर निगम छुट्टा पशुओं को लेकर फिक्रमंद नहीं है। ठा. बांकेबिहारी मंदिर के बाहर भी श्रद्धालु छुट्टा पशुओं से खासे परेशान हैं। फूलमाला और प्रसाद श्रद्धालुओं के हाथ से छीनने में छुट्टा गाय और सांड़ श्रद्धालुओं को चुटैल करते रहते हैं। मगर, नगर निगम बार-बार शिकायतों के बावजूद कोई कदम नहीं उठा रहा है।
सांसद भी बच चुकी हैं सांड़ से: सांसद हेमा मालिनी भी रेलवे जंक्शन के प्लेटफार्म पर कुछ दिनों पूर्व एक सांड़ की चपेट में आ गई थीं। इस दौरान वह बाल-बाल बच गई थीं। नहीं उठा रहा है।DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *