रथ में विराजे भगवान जगन्नाथ, दर्शन कर निहाल हुए भक्तजन 

-रथ में विराजे भगवान जगन्नाथ, दर्शन कर निहाल हुए भक्तजन 

वृन्दावन, 26 अक्टूबर 2017,(VT)इस्कॉन मंदिर ने तीसरी बार नगर में भगवान जगन्नाथ की रथयात्र निकाली। यात्र में बड़ी संख्या में देशी-विदेशी भक्तों ने जहां रस्सा खींचकर रथ को आगे बढ़ाया, वहीं भक्ति संगीत की धुनों पर नृत्य किया। स्वागत में मार्ग को रंगोली से सजाया। बुधवार दोपहर करीब दो बजे से छटीकरा मार्ग स्थित श्रीकृष्ण शरणम से भगवान जगन्नाथ की रथयात्र निकाली गई।
25 फुट ऊंचे पुष्पों से सजे रथ पर भगवान जगन्नाथ विराजमान हुए। रथ खींचने के लिए देशी-विदेशी भक्तों में होड़ मच गई। रथयात्रा का शुभारंभ जीएलए के कुलाधिपति नारायणदास अग्रवाल ने किया। रथ के आगे झाड़ू लगाकर प्रभु की सोहनी सेवा की गई। इसके पश्चात भगवान जगन्नाथ के रथ ने नगर के लिए प्रस्थान किया। कीर्तन मंडलियां हरिनाम संकीर्तन करती हुईं चल रही थीं। भक्त भावनृत्य कर रहे थे।
वहीं राधाकृष्ण की लीलाओं पर आधारित झांकियां भी आकर्षण का केन्द्र रहीं। रथयात्र परिक्रमा मार्ग से इस्कॉन मंदिर पहुंचकर संपन्न हुई। रथयात्र में जगह-जगह प्रसाद वितरण एवं पेयजल सेवा के लिए स्टॉल लगाई गई। इस्कॉन मंदिर के कृष्णा हॉल में देशी-विदेशी भक्तों ने भगवान कृष्ण पर आधारित लीलाओं का मंचन किया।
इस्कॉन वृंदावन के अध्यक्ष पंचगौड़ा दास ने बताया कि करीब पचास देशों से आए सैकड़ों विदेशी भक्त इस यात्र में शामिल हुए। DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *