बांकेबिहारी मंदिर गोस्वामियों को रास नहीं आए ब्रज तीर्थ विकास बोर्ड के सुझाव

– बोर्ड का सुझाव था कि ठा.बांकेबिहारी को गर्भग्रह से जगमोहन में लाया जाए

– मंदिर का प्रांगण श्रद्धालुओं की सुविधार्थ बड़ा किया जाए
– बैठक में तीन प्रस्तावों पर सेवायतों ने जताई आपत्ति, नहीं बनी कोई बात
वृन्दावन, 18 अक्टूबर 2017,(VT)ब्रज तीर्थ विकास बोर्ड ने ठा. बांके बिहारी मंदिर में आने वाले लाखों श्रद्धालुओं को सहज दर्शन हो इसे लेकर मंदिर प्रबंधन और गोस्वामियों के साथ बैठक की। बोर्ड के पदाधिकारियों ने तीन सुझाव गोस्वामियों के सामने रखे, लेकिन उन पर आम सहमति नहीं बना पाई। बोर्ड के उपाध्यक्ष शैलजाकांत मिश्र, सीईओ नागेंद्र प्रताप, एसडीएम कांतिशेखर ने बांके बिहारी मंदिर में बैठक की। इसमें मंदिर प्रबंधन और गोस्वामी शामिल हुए।
बोर्ड के उपाध्यक्ष ने मंदिर गोस्वामियों के आगे सुझाव रखे कि मंदिर के दर्शन का समय बढ़ाया जाए, ठा. बांकेबिहारी को गर्भगृह से जगमोहन में लाया जाए और मंदिर का प्रांगण बड़ा किया जाए। मंदिर के अधिकांश गोस्वामियों को तीनों ही सुझाव मंदिर की धर्म संस्कृति के अनुरूप नहीं लगे।
गोस्वामियों ने कहा कि मंदिर को आने वाले मार्ग की दशा में सुधार किया जाए, वह चैड़े हो, प्रकाश की व्यवस्था हो, केबल लटक रही है, तारों का जंजाल लगा है। यह समाप्त हो। पेयजल ओर बैंच लगाई जाए। मंदिर को आने वाले मार्गों पर यातायात व्यवस्था में सुधार किया जाए।
बैठक में बांके बिहारी मंदिर के प्रबंधक प्रशासन मुनीश कुमार, सह प्रबंधक उमेश सारस्वत, हरिबाबू गौतम, घनश्याम गोस्वामी, रजत गोस्वामी, गौरव गोस्वामी, विलास गोस्वामी, विनोद बिहारी गोस्वामी, ब्रजेश गोस्वामी, आभास गोस्वामी, बसंता गोस्वामी, बालकिशन गोस्वामी, बाबू गोस्वामी, मनोज गोस्वामी, मनोज लाला, मयूर गोस्वामी, बिन्दू गोस्वामी, मोहन बिहारी गोस्वामी आदि उपस्थित थे। DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *