पौराणिक अंजनी कुण्ड को सजाएगी ब्रज फाउण्डेशन, किया शिलायान्स

– देश के विख्यात संत रविपुरी जी महाराज, हरियाणा के मुख्यमंत्री के राजनीति सलाहाकार दीपक मंगला एवं विनीत नारायण द्वारा किया गया शिलायान्स
वृन्दावन, 15 अक्टूबर 2017,(VT) ब्रज के ऐतिहासिक कुंडों को संजाने और संवारने में लगी ब्रज फाउंडेशन ने संकर्षण कुंड के बाद अब अंजनी कुंड को बेहतर बनाने का बीड़ा उठाया है। चमेली वन स्थित पौराणिक अंजनी कुंड के सुंदरीकरण को शनिवार को भारत के विख्यात संत रविपुरी जी महाराज और हरियाणा के मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार दीपक मंगला ने शिलान्यास किया।
द ब्रज फाउंडेशन के अध्यक्ष विनीत नारायण ने कहा कि भुलवाना के ग्रामवासी पिछले कई वर्षों से पौराणिक अंजनी कुंड के जीर्णोंद्धार का अनुरोध कर रहे थे। कुछ वर्षों पूर्व मुबंई के उद्योगपति कमल मोरारका के आर्थिक सहयोग से संस्था ने चमेली वन स्थित अंजनी कुंड की जेसीबी से गहरी खुदाई कर, इसमें जमी गाद को निकाला। इसे चारों ओर चमेली वन में फैला दिया गया था। इसके बाद फाउंडेशन ने चमेली वन और अंजनी कुंड के सुंदरीकरण की कार्य योजना बनाकर हरियाणा सरकार के पर्यटन विभाग को सौंप दी। इसी बीच ‘इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड’ के आर्थिक सहयोग से आज ब्रज फाउंडेशन ने अंजनी कुंड के सुंदरीकरण कार्य शुभारंभ किया। इस मौके पर हरियाणा मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार श्री मंगला ने बताया कि जल्द ही हरियाणा सरकार फाउंडेशन के प्रस्ताव पर निर्णंय लेगी।
ब्रजवासियों को संबोधित करते हुए श्री नारायण ने बताया कि प्रथम चरण में घाटों और परिक्रमा मार्ग का निर्माण के साथ कुंड के चारों ओर सौंदर्यीकरण का कार्य किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि अंजनी कुंड वह पौराणिक कुंड है, जहां एकबार महारास के समय यशोदा मैया, बालकृष्ण को ढूंड़ती हुई आईं और गोपियों से घिरे श्रीकृष्ण डरकर, इस कुंड में कूद गये और इसमें से हनुमान जी बनकर निकले। मैया यह देखकर बड़ी प्रसन्न हुई कि मुङो आज हनुमान जी के दर्शन हो गये। वह हनुमान जी का दर्शन कर, खुशी-खुशी लौट गई और भगवान पुनः रास में शामिल हो गये। तबसे इस कुंड को अंजनी कुंड कहा जाता है।
इस कार्यक्रम में वृंदावन के अखिलेश पंडित ने मंत्रोच्चारण किया। होडल के पुरोहित समाज के व्यक्ति, भुलवाना ग्राम के विशिष्ट व्यक्ति और ब्रज फाउंडेशन के अधिकारी रजनीश कपूर, गौरव गोला, आर.के गौतम, मनसुख सिंह, प्रेम सिंह, आनंद व रामप्रकाश आदि मौजूद रहे। DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *