दीपावली त्योहार पर जीएसटी के चलते बाजारों में छाया सन्नाटा

वृन्दावन, 12 अक्टूबर 2017। दीवाली के मौके पर जब बाजार एकदम से उछाल मारता था। दुकान या शो-रूम पर दम लेने तक को फुर्सत नहीं मिलती थी। मगर इस साल दुकान और शोरूम संचालकों की आंखें ग्राहकों के इंतजार में पथरा गई हैं। दीवाली का मौका था तो माल तो पूरा भरना ही था। मगर, दीवाली से चंद रोज पहले तक के हालात ऐसे कि पूरा दिन में एक या दो ग्राहक शोरूम अथवा दुकान पर पहुंच जाएं तो बड़ी आवभगत में जुट जाते हैं कर्मचारी।

शहर में करीब एक दर्जन रेडीमेड गारमेंट्स के शोरूम हैं। मगर सभी पूरा दिन खाली नजर आ रहे हैं। प्रताप बाजार स्थित हरिदास गारमेंट्स शोरूम के संचालक चंदू कुशवाह कहते हैं कि दीवाली के मौके पर इन दिनों सांस लेने का समय नहीं मिलता था। मगर, आज के हालात ऐसे हैं कि ग्राहकों का पूरे दिन इंतजार करना पड़ रहा है। इसके लिए कुशवाह ने जीएसटी को जिम्मेदार ठहराया। कहा कि जीएसटी लागू होने के बाद से रेडीमेड गारमेंटस के दामों में जिस तरह उछाल आया है। लोगों के कदम शोरूम की ओर आन से थम गए हैं।

ऐसा ही हाल इलेक्ट्रानिक शोरूम का है। अनाजमंडी स्थित दाऊदयाल इलेक्ट्रिकल्स के स्वामी पवन कुमार गोयल ने कहा कि जीएसटी में 28 फीसदी टैक्स लगने के बाद से दुकानदारी एकदम से ठंडी पड़ चुकी है। बोले दीवाली का मौका था तो सारे आयटम रखने ही पड़ते हैं। मगर, बिक्री बिल्कुल नहीं हो पा रही है। जबकि पिछले सालों में इन दिनों जमकर दुकानदारी होती थी। ड्राईफ्रूट विक्रेता संजय ट्रेडर्स के स्वामी अरुण अग्रवाल ने कहा कि जरूरत के मुताबिक ही लोग ड्राईफ्रूट की खरीद कर रहे हैं। जो कि सामान्य बिक्री होती है वही हो रही है। जबकि दीवाली के मौके पर ड्राईफ्रूट की बिक्री में कई गुना इजाफा हर साल हो जाता है। ग्राहक इस त्योहार पर मिठाई से ज्यादा मेवा खरीदते है। इस साल जीएसटी के कारण बढ़े दाम के बाद से ड्राईफ्रूट की बिक्री भी सामान्य ही है।

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *