रोजाना हाईकोर्ट-एनजीटी की फटकार के बाद भी नहीं सुधरे अधिकारी, यमुना में बहते मिले नाले

– गरीब एकता दल ने किया निरीक्षण

वृन्दावन, 28 सितम्बर 2017(VT) एक ओर प्रदेश और केंद्र सरकार स्वच्छता अभियान के नाम पर जागरूकता पैदा करने को करोड़ों रुपए का प्रचार-प्रसार में खर्च कर रही है। लेकिन केंद्र और प्रदेश के प्रशासनिक अधिकारी सब सरकारों की तरह इस सरकार की योजना को भी ठिकाने लगाने में लगी है। मथुरा-वृन्दावन में यमुना में गिरते नालों को लेकर प्रशासन कतई गंभीर नहीं दिख रहा है।
जबकि आयेदिन हाईकोर्ट एवं एनजीटी में प्रशासन को खरी-खोटी सुनाई जाती हैं लेकिन हालात सब जस के तस है।
एक तरफ तो मुख्यमंत्री ने तीर्थ विकास परिषद् का गठन ब्रज विकास का खाका खींचा लेकिन दूसरी ओर यमुना में शहर के नाले बेरोकटोक गिर रहे है। अब तो यह लग रहा है कि ब्रज के धार्मिक विकास के दावे उनके ही मातहत सफल नहीं होने दे रहे। वृंदावन में यमुना में गिर रहे नालों को रोकने के लिए जिम्मेदार नगर निगम व जिला प्रशासन ने अभी तक कोई कदम नहीं उठाया है।
बुधवार को यमुना में गिरते नालों का निरीक्षण करने पहुंचा गरीब एकता दल ने गिरते नालों पर नाराजगी जताई। दल के संरक्षक बाबा मदनबिहारी दास ने जिला प्रशासन की लापरवाही की वजह से यमुना में अनवरत् रूप से शहर के नाले प्रवाहित हो रहे है, कहा कि जल्द ही उप्र तीर्थ विकास परिषद के सीईओ नागेंद्र प्रताप व उपाध्यक्ष शैलजाकांत मिश्र से मुलाकात कर नालों को बंद कराने की मांग की जायेगी। DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *