निगम में बदहाल वृन्दावन, मंदिरों के प्रमुख मार्गों पर पसरी पड़ी गन्दगी

– वृन्दावन की दुर्दशा पर प्रशासनिक अफसर मौन

वृन्दावन, 24 सितम्बर 2017,(VT) जैसा कि आपने सोचा था, ठीक वैसे ही हो रहा हैं। नगर निगम में वृन्दावन के शामिल होने से वृन्दावन की बदहाली निश्चित है यह तय था। नगर निगम प्रशासन सफाई के मामले में चाहे लाख दावे कर रहा हैं, लेकिन यह सब गलत साबित हो रहे है। वृन्दावन में तितर-बितर पड़ी गंदगी एनजीटी के आदेशों की धज्जियां भी उड़ा रही हैं, लेकिन नगर निगम प्रशासन मूकदर्शन बनकर इस मंजर को देख रहा है।
जैसा कि आप जानते है कि नवरात्र में वृन्दावन के देवीमंदिरों में भक्तों की भीड़ बनी है। वृन्दावन स्थित कात्यायनी मंदिर जो कि वृन्दावन में देवी मंदिर का एक बहुत बड़ा केन्द्र है। जहां नवरात्र में सुबह-शाम मिलाकर हजारों की संख्या लोग मंदिर में मां कात्यायनी के दर्शन को लेकर श्रद्धालुओं को सैलाब उमड़ रहा हैं, तो वहीं निगम प्रशासन का सफाई की ओर कोई ध्यान नहीं है।
मां कात्यायनी मंदिर के प्रमुख मार्ग पर भारी मात्रा में गंदगी पसरी हुई। और मृत जानवर भी पड़े है, हजारों की संख्या में जाते-आते श्रद्धालुओं की मुख्य मार्ग गन्दगी एवं मृत पशु पड़े होने की वजह से आस्था को ठेस पहुंचती है और वृन्दावन की दुर्दशा पर श्रद्धालु एवं भक्त दुखी होते है। जहां एक ओर वृन्दावन की महिमा पुराणों और वेदों में कितनी उत्तम की गई हैं, लेकिन यहां पर उसके अनुरूप कोई कार्य नहीं किया जा रहा हैं, वृन्दावन की दुर्दशा के जिम्मेदार प्रशासनिक अफसर हैै, जो कि वृन्दावन के प्राकृतिक सौन्दर्यीकरण को नष्ट कर आधुनिक सौन्दर्यीकरण का अमलीजामा पहनाने में लगे है। DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *