गोचर-भूमि को बचाने के लिए कृष्ण-नगरी वृन्दावन से फूंकेगा बिगुल

– राष्ट्रव्यापी मुहिम छेड़कर इस अभियान की शुरूआत होगी
– इस अभियान की शुरूआत करेंगे भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव के.एन. गोविन्दाचार्य
वृन्दावन, 06 अगस्त 2017,(VT) मथुरा जनपद स्थित देश में कब्जे के रसातल में जा गिरी गोचर भूमि को बचाने के लिए अब राष्ट्रव्यापी राष्ट्रव्यापी मुहिम छेड़ी जाएगी। भगवानश्रीकृष्ण की क्रीडास्थली वृन्दावन से इसका शंखनाद होगा। इस विशाल अभियान की अगुवाई भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव के.एन. गोविंदाचार्य करेंगे। इस विशाल अभियान में सामाजिक कार्यकर्ता पीवी राजगोपाल भी विशेष भूमिका निभाएंगे। शीघ्र ही तारीख का एलान कर दिया जाएगा।
एक सर्वे कराया गया जिसमें कि उप्र में सार्वजनिक भूमि का 90 फीसदी भाग कब्जे के मुंह में हैं, गोचर, तालाब, सरोवरों की भूमि को बचाने के लिए भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव गोविंदाचार्य अहम भूमिका निभाने वाले हैं। मुहिम में पीवी राजगोपाल और हरियाणा के संत गोपाल दास बाबा भी शामिल हैं।
गायों की हत्या और गोशाला की मांग के बीच बात उठाई है कि कब्जे का यही हाल रहा, तो एक गोचर भूमियों का अस्तित्व ही खत्म हो जायेगा। उनका कहना है कि हर भूमि अधिनियम के तहत यह सैद्धान्ति जमीन के दायरे में आती है गोचर भूमि। गोचर भूमि वह भूमि है जिन पर न तो कब्जा किया जा सकता हैं और किसी भी दशा में इसका प्रयोग बदला जा सकता है। यह भूमि गायों और अन्य पशुओं के चारागाह का केन्द्र होती है। लेकिन अफसोस यह है कि ऐसी भूमियां आज कब्जे के रसातल में जा धंसी है।
वृन्दावन टुडे से बातचीत करने पर उन्हें बताया कि गोचर भूमि को बचाने के लिए इस अभियान का बिगुल श्रीकृष्ण की क्रीडास्थली वृंदावन से फूंका जायेगा। संत गोपाल दास इसी मुद्दे को लेकर हरियाणा में कई बार अनशन भी शुरू कर चुके हैं।
पीवी राजगोपाल ने भी इस अभियान की पुष्टि करते हुए वृन्दावन टुडे से कहा कि जल्द ही एकराय होकर इस अभियान की दिनांक तय कर घोषणा कर दी जायेगी। कहा कि यह बहुत अफसोस की बात है कि सरकार सर्वप्रथम इसी मुद्दे पर पहन करनी चाहिए, लेकिन उस पर इनक ध्यान नहीं है। सभी सामाजिक व धार्मिक संगठनों को एकजुट कर इस अभियान की शुरूआत होगी। उन्होंने कहा कि श्रीकृष्ण की सबसे प्रिय वस्तु धेनु हैं, इसलिए इस अभियान की शुरूआत करने की इस दिव्य स्थल से करनी योजना बनाई गई है।DKS

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *