वृन्दावन शोध संस्थान में स्वच्छता पखवाड़ा का आयोजन

वृन्दावन, 2017.04.21 (VT):  वृन्दावन शोध संस्थान में 16 अप्रैल से संचालित स्वच्छता पखवाड़ा के क्रम में शुक्रवार को वृहद स्वच्छता अभियान चलाये जाने के साथ ही ‘वर्तमान स्वच्छता अभियान की प्रासंगिकता’  विषयक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर संस्थान के  निदेशक सतीशचन्द्र दीक्षित ने कहा स्वच्छ और हरित भारत की स्थापना के लिये सभी को खुले मन और दिमाग से जुटना होगा। सरकार द्वारा प्रेरित यह अभियान आमजन का है और आमजन की भागीदारी से ही यह विचार सफलता को प्राप्त करेगा। डाॅ.ब्रजभूषण चतुर्वेदी ने कहा स्वच्छता  मनुष्य का स्व-प्रेरित स्वभाव है, हमें इसका दायरा बढ़ाना होगा। उन्होंने कहा केवल घर ही नहीं, अपने आस-पास के परिवेश एवं कार्यालयों में भी हमें स्वच्छता को आत्मसात करना होगा।DSC_0209        डाॅ.राजेश शर्मा ने कहा स्वच्छता और पर्यावरण प्रेम वृंदावन के संस्कारों में रहा है। हमें पिछले 500 सालों से चल रहे सोहनी सेवा एवं वन प्रेम जैसे संस्कारों को जाग्रत करना होगा जिसकी व्याप्ति यहां साहित्य, संगीत एवं कला तीनों रूपों में अभिव्यक्त हुई है। उन्होंने कहा अतीत की नसीहत के रूप में हमें ऐसे संदर्भों को सहेजने की आवश्यकता है जिससे वर्तमान अभियान को सुदृढ़ धरातल मिल सकेगा। इससे पूर्व संस्थान के सभी कर्मचारियों द्वारा परिसर में वृहद सफाई अभियान चलाया गया। इस दौरान संस्थान की सचिव श्रीमती सुशीला गुप्ता, सुकुमार गोस्वामी, रजत शुक्ला, मुरारीलाल, बसन्त, जयदेव डे, कन्हैयालाल शर्मा, उमाशकर पुरोहित, कृष्ण कुमार मिश्रा, करवेन्द्र सिंह, जुगल शर्मा, जितेन्द्र, महेन्द्र सिंह, दीक्षित, राजकुमार शुक्ला , रमेशचन्द्र, विष्वनाथ,  युधिष्ठिर सैनी, बांकेबिहारी, रेखा कुमारी, ममता कुमारी एवं  शिल्पी शर्मा समेत अनेक जन उपस्थित थे।

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *