भक्तों ने पालकी में बैठाकर प्रभुपाद को सप्त देवालय दर्शन कराये

वृन्दावन, 2016.11.03 (VT):  कृतज्ञ अनुयायियों ने इस्कॉन के संस्थापक श्री एसी भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद के तिरोभाव महोत्सव की पूर्व संध्या में शोभा यात्रा निकाला।
देशी-विदेशी भक्तों ने गुरुवार को नगर में एसी भक्तिवेदांत प्रभुपाद की पालकी यात्रा धूमधाम से निकाली। संकीर्तन की धुन पर भक्तों ने यात्रा में भावनृत्य किया। उन्होंने प्रभुपाद की मूर्ति को नगर के प्राचीन देवालयों का दर्शन कराया तथा खुद ने भी दर्शन किया। पालकी यात्रा का जगह-जगह स्वागत हुआ।

img-20161104-wa0003गुरुवार प्रात: साढ़े सात बजे इस्कॉन के संस्थापक आचार्य श्रील प्रभुपाद के तिरोभाव महोत्सव के पहले दिन रमणरेती मार्ग स्थित इस्कॉन मंदिर से श्रील प्रभुपाद की पालकी यात्रा शुरु हुई। यात्रा में पुष्पों से सजी पालकी में आचार्य श्रील प्रभुपाद की चल प्रतिमा विराजमान थी। इस्कॉन के गवर्निग बॉडी कमेटी के ट्रस्टी त्रिदण्डी गोपालकृष्ण गोस्वामी का अध्यक्षता में निकली यात्रा में हजारों की संख्या में देशी-विदेशी भक्त मृदंग, झांझ, मंजीरा और हारमोनियम की धुन के साथ हरेराम हरेराम महामंत्र का संकीर्तन करते हुए चल रहे थे। वहीं भक्तजन संकीर्तन की धुन पर यात्रा में भावनृत्य कर रहे थे। पालकी को देश-विदेशी भक्त अपने कंधों पर लेकर चल रहे थे।
यात्रा रमणरेती मार्ग से हरिनिकुंज चौराहे होते हुए प्राचीन मदनमोहन मंदिर पहुंची। यहां से परिक्रमा मार्ग होकर चीरघाट से प्राचीन देवालय राधादामोदर, राधाश्याम सुंदर, राधारामण मंदिर के पश्चात लोई बाजार होते हूए नगर पालिका चौराह से पुनः इस्कॉन मंदिर पहुंची। मंदिर में पालकी यात्रा के विश्राम के बाद प्रभु कृष्ण बलराम के समक्ष इस्कॉन भक्तों ने संकीर्तन के साथ जमकर नृत्य किया। img-20161104-wa0002
सूत्रों के अनुसार शुक्रवार को इस्कॉन मंदिर में तिरोभाव महोत्सव के दिन श्रील प्रभुपाद का पंचामृत से अभिषेक किया जाएगा। इसके पश्चात पुष्पांजलि एवं उनका गुणगान होगा।

इसमें बड़ी संख्या में देशी-विदेशी भक्त शामिल होंगे। इस अवसर पर लोकनाथ स्वामी महाराज, दीनबंधु दास, भक्ति रसामृत स्वामी, भक्ति अग्रगृह जनार्दन स्वामी, राधागोविन्द गोस्वामी, भक्ति आश्रय वैष्णव स्वामी, महाराज कदंब कानन स्वामी, देवकीनन्दन प्रभु, पंचगौड़ा प्रभु आदि उपस्थित थे।

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *