कार्तिक में बना रहा वृन्दावन परिक्रमार्थियों को दुर्घटना का खतरा

img-20161101-wa0074वृन्दावन, 2016.11.11 (VT): शासन प्रशासन को वृन्दावन में आने वाले लाखों की संख्या में भक्तों के आस्था की परवाह नहीं है। पूरे कार्तिक माह में हजारों की संख्या में लोगों ने वृन्दावन परिक्रमा अनेकों कष्ट के मध्य दिया। डामर रोड, सड़क के उपर बहती हुयी नालियां, फर्राटे भरते हुये वाहन। इन सभी से परेशान भक्तों ने बमुश्किल कार्तिक में परिक्रमा का नियम पालन किया। परिक्रमा ने हाईवे का रूप् धारण कर लिया।
कार्तिक मास में नगर के पंचकोसीय परिक्रमा मार्ग में निरंतर वाहनों के आवागमन से देशी-विदेशी भक्तों की जान को खतरा बना हुआ है। पालिका प्रशासन, संत समाज एवं नगर वासियों की मांग के बाबजूद प्रशासनिक अधिकारियों ने हाईवे का रुप ले रहे परिक्रमा मार्ग की ओर पीठ कर ली है।
आस्था का केंद्र वृन्दावन में कार्तिक मास पर बड़ी संख्या में देशी व विदेशी भक्त अपने आराध्य के नाम जप के साथ पंचकोसीय परिक्रमा दिन-रात लगा रहे है। लेकिन पिछले पांच वर्ष से अधिक समय से यमुना कटान से नष्ट हुए डांगोली मार्ग के निर्माण कार्य ना होने के कारण यमुना एक्सप्रेस वे और मांट से बड़ी संख्या में आने वाले भारी और हल्के वाहनों का आवागमन हो रहा है। तेजी से परिक्रमा मार्ग में अंधकार में चल रहे वाहनों से परिक्रमार्थियों को अपनी जान का खतरा बन रहा है।
ज्ञात हो कि गत वर्ष इग्लेंड की महिला भक्त चारुचंद्रिका दासी को अनियंत्रित ट्रक ने परिक्रमा के दौरान टक्कर मार दी। इससे पहले भी आधा दर्जन श्रद्धालुओें की मौतें इस परिक्रमा मार्ग पर अनियंत्रित बड़े वाहनों से हो चुकी है।
वृन्दावन पंडा सभा के उपाध्यक्ष श्री राम नारायण ब्रजवासी ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों से लंबे समय से परिक्रमा मार्ग को वाहन मुक्त करने की मांग कर रहे है। कई हादसे भी हो चुकी है। किन्तु प्रशासन कुम्भकर्णी नींद सो रहा है। वह परिक्रमार्थियों के साथ और भी बड़े हादसे का इंतजार कर रहे हैं।

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *