परिक्रमा मार्ग का होगा कायाकल्प

मथुरा: धर्म नगरी की परिक्रमा अब कष्ट नहीं देगी। पर्यटन विभाग श्रद्धालुओं को राहत पैकेज की भेंट देगा। पर्यटन विभाग ने इसी सोच के साथ मथुरा परिक्रमा मार्ग के जीर्णोद्धार का एस्टीमेट तैयार कर लिया है। इस कार्य के लिए केंद्र सरकार से पैसा भी आ गया है। निकाय चुनाव के बाद शासनादेश आते ही जीर्णोद्धार का कार्य शुरू कराने की तैयारी है।

पर्यटन विभाग मथुरा के विलुप्त होते परिक्रमा मार्ग को लेकर नींद से जग गया है। इसी के तहत कुल 12 किमी परिक्रमा मार्ग के नौ किमी बदहाल हिस्से को विभाग ने दुरुस्त करने की तैयारी कर ली है।

भूतेश्वर के पास तीन किमी के मार्ग को आवास विकास ने पहले ही दुरुस्त करा दिया है। इसके बाद भी नौ किमी परिक्रमा मार्ग अभी भी विलुप्त होने जैसी हालत में है। गलियों में अतिक्रमण और उखड़ी सड़कें परिक्रमा के दौरान श्रद्धालुओं को कष्ट देती हैं।

जनपद में होने वाले अन्य आठ विकास कार्यो के साथ 31 करोड़ के प्रस्ताव में से केंद्र सरकार ने 15 करोड़ रुपये की पहली किश्त राज्य सरकार को भेज दी है। इसी किश्त से मथुरा के परिक्रमा मार्ग का भी जीर्णोद्धार किया जाना है। इसके तहत परिक्रमा मार्ग के किनारे नालियां, गलियों में इंटरलॉकिंग और सड़कों पर सुधार का कार्य किया जाएगा।

पर्यटन अधिकारी डीके शर्मा के मुताबिक कार्य के लिए इस्टीमेट पूर्व में ही भेजा जा चुका है। उनके मुताबिक शासनादेश आते ही जीर्णोद्धार का कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

जान का जोखिम नहीं होगा कम

मथुरा परिक्रमा मार्ग का विकास कराने के दौरान नौ किमी परिक्रमा मार्ग को तो ठीक कर दिया जाएगा। बावजूद इसके परिक्रमार्थियों की जिंदगी की सुरक्षा को लेकर इस योजना में भी कोई प्रावधान नहीं होगा। योजना में तीन जगह रेलवे लाइन पार करने की समस्या जस की तस बनी रहेगी।

कंस टीले पर बनेंगी सीढ़ियां

परिक्रमा मार्ग पर जीर्णोद्धार कार्य के दौरान परिक्रमार्थियों को राहत देने को कंस टीले पर सीढ़ियां बनाई जाएंगी। पर्यटन अधिकारी डीके शर्मा के मुताबिक इन सीढ़ियों को बनने से श्रद्धालुओं को बहुत राहत मिल सकेगी।

इसी योजना में होंगे यह भी कार्य :

गोकुल के घाट का निर्माण किया जाएगा।

फालैन के प्रहलाद कुंड का जीर्णोद्धार कार्य होगा।

वृन्दावन के दावानल कुंड पर विकास कार्य होगा।

चिंताहरण महादेव मंदिर पर जीर्णोद्धार कार्य होगा।

मथुरा के अपस्ट्रीम में घाट का निर्माण किया जाएगा।

राधारानी मान सरोवर पर जीर्णोद्धार कार्य किया जाएगा।

वृन्दावन में शौचालयों में मरम्मत और नए शौचालयों का निर्माण होगा।

गोवर्धन परिक्रमा मार्ग पर सात मीटर चौड़ा कच्चा मार्ग बनेगा।

एक उत्तर दें छोड़ दो

Your email address will not be published. Required fields are marked *